September 21, 2021 12:52 pm
featured यूपी राज्य

कानपुर: 95 टैनरी इकाईयों को प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड का नोटिस,खुद बिजली कनेक्शन कटवाने को कहा

kanpur 1 1 कानपुर: 95 टैनरी इकाईयों को प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड का नोटिस,खुद बिजली कनेक्शन कटवाने को कहा

लखनऊ। कानपुर में कच्चे चमड़े की फिनिशिंग का काम करने वाली 95 टैनरी इकाइयों को प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड की तरफ से बिजली का कनेक्शन कटवाने का नोटिस दिया गया है। इस पर स्माल टैनर एसोसिएशन ने एतराज जताया है, इस उद्योग से जुड़े व्यापारियों का कहना है कि इन 95 फैक्ट्रियों को जानबूझकर बंद कराने की साजिश रची जा रही है। यदि यह टैनरी इकाइयां बन्द हुयी तो सीधे तौर पर 10 हजार से अधिक लोग बेरोजगार हो जाएंगे।

इसके अलावा इस व्यापार से जुड़े  अन्य कारोबारी तथा इंडस्ट्रीज पर भी खासा असर पड़ेगा।

इस वजह से टैनरी को दिया गया नोटिस

कानपुर के जाजा मऊ स्थित पंपिंग स्टेशन 3 से जुड़ी 95 टैनरी को उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा बंद करने का आदेश जारी किया गया था। इन टैनरी इकाइयों को अब यह आदेश मिला है कि इकाइयां खुद विद्युत विभाग से संपर्क कर अपना विद्युत कनेक्शन कटवा लें।

बताया जा रहा है कि गंगा में बढ़ते प्रदूषण को रोकने के लिए यह फैसला लिया गया है।

इन 95 टैनरी इकाइयों पर अधिक मात्रा में प्रदूषित पानी निकालने का आरोप है। जबकि इन टैनरी इकाइयों से जुड़े कारोबारियों ने इस आरोप को सिरे से नकार दिया है।

दरअसल कानपुर जिले में 200 टैनरी इकाईयां हैं। जो पंपिंग स्टेशन-वन पंपिंग स्टेशन- टू पंपिंग स्टेशन-3 पंपिंग स्टेशन- 4 से जुड़ी हुई है। इन इकाइयों से निकलने वाला गंदा पानी इन पंपिंग स्टेशनों पर आता है फिर यहां से यह पानी कॉमन ट्रीटमेंट प्लांट में जाता है, जहां से पानी को साफकर सिंचाई के लिए उपयोग किया जाता है तथा गंगा में डाला जाता है।
बताया जा रहा है कि पंपिंग स्टेशन -3 पर गंदे पानी का ओवरफ्लो अधिक हो जाता है। जिसकी वजह से गंगा प्रदूषित होती है। जिसकी वजह से इन टैनरी इकाइयों के बन्दी के निर्देश जारी किए गए हैं।

नई कंपनी ने बढ़ाई समस्या

कानपुर के टैनरी (चमड़ा उद्योग) के मालिक तथा  स्मॉल टैनर एसोसिएशन के सेक्रेटरी इफ्तिकार बताते हैं कि पंपिंग स्टेशन 3 से जुड़ी 95 टैनरी को प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की तरफ साल 2020 के बाद नोटिस देकर यहां के कुछ उपकरणों को सील कर दिया गया था, अब इन टैनरी को नोटिस मिला है कि स्वयं ही अपने बिजली के कनेक्शन कटवा ले।

इफ्तिकार के मुताबिक 95 टैनरी को बंद करने की यह पूरी कवायद है। उन्होंने बताया कि पंपिंग स्टेशन 3 से जुड़ी इन 95 टैनरी के ऊपर आरोप है कि इनके यहां से गंदा पानी अधिक आता है, जिसकी वजह से पंपिंग स्टेशन ओवरफ्लो हो जाता है, जबकि साल 2019 तक जब पंपिंग स्टेशन थ्री का संचालन जल निगम करता था, तब तक यह समस्या नहीं थी,जब से गुजरात की एक निजी कंपनी को इस पंपिंग स्टेशन के संचालन का जिम्मा मिला है,तब से यह समस्या आ रही है।

आरोप है कि पंपिंग स्टेशन का संचालन करने वाली कंपनी खुद ठीक से काम नहीं कर रही है और जिम्मेदार टैनरी को ठहराया जा रहा है। उन्होंने बताया कि पंपिंग स्टेशन-3 का संचालन करने वाले ठेकदार की यह जिम्मेदारी है कि वह केमिकल आदि से प्रदूषित पानी का ट्रीटमेंट करे तथा पानी का ओवरफ्लो न हो इसका ध्यान रखे,लेकिन वहां पर ऐसा नहीं हो रहा है।

उन्होंने बताया कि यदि यह 95 टैनरी बन्द हो जाती है, तो करीब 10,000 लोग बेरोजगार हो जाएंगे।

पाकिस्तान तथा बांग्लादेश से जा रहा कच्चा माल

टैनरी के संचालक जफर आलम बताते हैं कि जिन 95 टैनरी को प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की तरफ से नोटिस मिली है, वहां पर आधे से अधिक क्षमता से भी कम काम हो रहा है। जिसकी वजह से चमड़े की वस्तुओं का कारोबार करने वाले व्यापारी बाहर से चमड़े का आयात कर रहे हैं, उन्होंने बताया कि बांग्लादेश तथा पाकिस्तान से मौजूदा समय में व्यापारी चमड़ा मंगा रहे हैं, व्यापारियों का कहना है कि यहाँ के 95 टैनरी कब बन्द हो जाये, कुछ कहा नहीं जा सकता इस वजह से बाहर से माल मंगाना पड़ रहा है।

बताया जा रहा है कि भारत में मांग अधिक होने की वजह से बांग्लादेश में जहां पहले दो टैनरी हुआ करती थीं, वहां आज 11 टैनरी है। वहीं पाकिस्तान में 5 टैनरी थी,वहां 30 हो गयी हैं।

सपोर्टिंग इंडस्ट्रीज पर भी पड़ेगा असर

टैनरी उद्योग से जुड़े सरजील बताते हैं कि मौजूदा समय में 95 टैनरी इकाईयों में 25 फीसदी काम हो रहा है,प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के बंदी के आदेश के बाद से ही 75 फीसदी काम बंद है,पहले से ही इस रोजगार से जुड़े पांच हजार से अधिक लोग बेरोजगार हैं,कहीं यह टैनरी पूरी तरह से बंद हो गयी,न सिर्फ हजारों लोग बेरोजगार होंगे,बल्कि सपोर्टिंग इंडस्ट्रीज पर इसका गहरा असर पड़ेगा।

उन्होंने बताया कि पंपिंग स्टेशन-3 की क्षमता 3 एमएलडी पानी की है,जबकि यहां पर 5 एमएलडी पानी आ जाता है,जिसकी वहज से ओवरफ्लो होता है,यह पानी सिर्फ टैनरी से नहीं आता,यहां डोमेस्टिक पानी भी आता है,घरों तथा सीवर का पानी भी इसी पंपिंग स्टेशन पर आता है।

Related posts

धर्म के नाम पर वोट मांगने वाले राजनेताओं पर सख्त हुआ चुनाव आयोग

kumari ashu

जानिए: 6 महीने में उत्तर प्रदेश पुलिस ने किए कितने एंकाउटर, कितनों को किया गिरफ्तार

Rani Naqvi

गुजरात: बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह फूकेंगे चुनावी बिगुल, शुरु होगी 15 दिनों की गौरव यात्रा

Pradeep sharma