January 16, 2022 9:13 am
featured दुनिया देश साइन्स-टेक्नोलॉजी

डूबेंगे मुंबई के तटीय इलाके ?, ANTARCTIC में टूट रहा 1,70,312 किमी लंबा ग्‍लेशियर

pic 1 डूबेंगे मुंबई के तटीय इलाके ?, ANTARCTIC में टूट रहा 1,70,312 किमी लंबा ग्‍लेशियर

अमेरिका के फ्लोरिडा राज्‍य के बराबर का ग्‍लेशियर अंटार्कटिका से अलग हो सकता है। इस थवेट्स ग्‍लेशियर में तेजी से दरार आ रही है। अगर यह टूटता है तो दुनिया में 25 इंच तक समुद्र का जलस्‍तर बढ़ जाएगा।

यह भी पढ़े

ओमीक्रोन वेरिएंट बढ़ा रहा टेंशन, DELHI-MUMBAI में CORONA OMICRON की लहर तेज

 

धरती पर अथाह जल के स्रोत अंटार्कटिका के तबाही लाने वाले ग्‍लेशियर थवेट्स में दरार आना शुरू हो गया है। यह ग्‍लेशियर 170,312 किमी लंबा है जो अमेरिका के फ्लोरिडा राज्‍य के बराबर है।

विशेषज्ञों ने चेतावनी, 25 इंच तक बढ़ेगा जलस्‍तर

विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि अगले 5 साल में यह ग्‍लेशियर टूट जाएगा जिससे दुनियाभर के समुद्र में जलस्‍तर 25 इंच तक बढ़ जाएगा। इससे मुंबई जैसे दुनिया के तटीय शहरों के कई इलाके पानी में डूब सकते हैं। विशेषज्ञों ने कहा कि इस थवेट्स ग्‍लेशियर में आ रही दरार की गति बहुत ज्‍यादा है। इस बर्फ से निकला पानी वैश्विक स्‍तर पर समुद्र में जलस्‍तर में कुल बढ़ोत्‍तरी का 4 प्रतिशत होगा।

UN Confirms 183 Degrees Celsius Record Heat in Antarctica डूबेंगे मुंबई के तटीय इलाके ?, ANTARCTIC में टूट रहा 1,70,312 किमी लंबा ग्‍लेशियर

ग्‍लेशियर के टूटने की वजह

सोमवार को जारी ताजा आंकड़े के मुताबिक समुद्र का गर्म होता पानी थवेट्स ग्‍लेशियर की पकड़ को अंटार्कटिका से कमजोर कर रहा है। इससे ग्‍लेशियर की सतह पर क्रैक आ रहे हैं। इस संबंध में सैटलाइट आंकड़ों को अमेरिकन जिओफिजिकल यूनि‍यन की वार्षिक बैठक में पेश किया गया है।

पूरी दुनिया के समुद्र का जलस्‍तर 25 फीसदी तक बढ़ेगा

इसमें दिखाई दे रहा है कि ग्‍लेशियर में कई विशाल और तिरछी दरारें हैं। शोधकर्ताओं ने कहा, ‘अगर तैरते हुए बर्फ की चट्टान टूटती है तो थवेट्स ग्‍लेशियर से वैश्विक स्‍तर पर समुद्र का जलस्‍तर 25 फीसदी तक बढ़ जाएगा। विशेषज्ञ प्रफेसर टेड स्‍काबोस ने बीबीसी से बातचीत में कहा, ‘ग्‍लेशियर के मोर्चे पर संभवत: 1 दशक से भी कम समय में बड़ा बदलाव होने जा रहा है।

रिसर्च कर रही किस ओर इशारा ?

अब तक हुए कई शोध इस दिशा में इशारा करते हैं। यह थवेट्स ग्‍लेशियर के टूटने की रफ्तार को तेज करेंगे और उसे विस्‍तृत करेंगे। इस शोध को करने वाले ओरेगांव स्‍टेट यूनिवर्सिटी के शोध दल के मुखिया इरिन पेट्ट‍िट ने कहा कि जैसे कार के आगे के शीशे में हल्‍का सा झटका लगने पर वह कई टुकड़ों में बंट जाता है, कुछ उसी तरह से यहां भी है।

pic 1 डूबेंगे मुंबई के तटीय इलाके ?, ANTARCTIC में टूट रहा 1,70,312 किमी लंबा ग्‍लेशियर

एक्सर्पटस का कहना है कि वैश्विक स्‍तर पर समुद्र के जलस्‍तर में तीन गुना रफ्तार से तेजी आएगी। यही नहीं इस ग्‍लेशियर के टूटने के बाद और ज्‍यादा ग्‍लेशियर अंटार्कटिका से अलग होंगे। एक शोध के मुताबिक 1980 के दशक से लेकर अब तक कम से कम 600 अरब टन बर्फ नष्‍ट हो चुकी है।

 

Related posts

कावेरी जल विवाद: सुप्रीम कोर्ट से कर्नाटक को थोड़ी राहत

bharatkhabar

WORLD AIDS DAY 2021: ‘विश्व एड्स दिवस’ आज, जानें इस साल की थीम और इतिहास

Neetu Rajbhar

उत्तराखंड: एक ऐसा अस्पताल जो मरीजों को फोन से लेकर घर तक दे रहा फ्री इलाज

Shailendra Singh