featured दुनिया देश

सत्ता का मोह: आपस में भिड़े तालिबान और हक्कानी, पंजशीर में मारे गए 600 तालिबानी

taliban fighters सत्ता का मोह: आपस में भिड़े तालिबान और हक्कानी, पंजशीर में मारे गए 600 तालिबानी

अफगान पर कब्जे के बाद तालिबान अब सत्ता बनाने में लगा है । लेकिन उनके लिए यह राह आसान नहीं है। सत्ता बनाने के लिए उनके रास्ते में हक्कानी आ रहे हैं।

 

जान लें घर के मंदिर में हर रोज पूजा करने के ये निमय. जीवन में आयेगी खुशहाली

 

दोनों नेटवर्कों में छिड़ी लड़ाई

अफगानिस्तान के अखबार ‘पंजशीर ऑब्जर्वर’ की रिपोर्ट के अनुसार हक्कानी नेटवर्क की फायरिंग में तालिबान का को-फाउंडर मुल्ला बरादर घायल हो गया है। रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि बरादर का इस समय पाकिस्तान में इलाज चल रहा है। हालांकि अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है।

पंजशीर में मारे गए 600 तालिबानी

पंजशीर में तालिबान और अहमद मसूद की अगुआई वाली रेजिस्टेंस फोर्स के बीच जंग जारी है। इस बीच रेजिस्टेंस फोर्स ने यह दावा किया है कि बीते शनिवार को उसने 600 तालिबानियों को मार गिराया। इस दौरान 1000 तालिबानियों ने या तो सरेंडर कर दिया या उन्हें पकड़ लिया गया।

तालिबान ने बताई ये वजह

वहीं अल जजीरा की एक रिपोर्ट के मुताबिक तालिबान का कहना है कि पंजशीर की राजधानी बाजारक और प्रांतीय गवर्नर के परिसर की ओर जाने वाली सड़कों पर लैंडमाइन होने की वजह से वे आगे नहीं बढ़ पा रहे हैं।

पाकिस्तान पर लगा आरोप

हालांकि इस दौरान पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के चीफ लेफ्टिनेंट जनरल फैज हामिद के काबुल पहुंचने को लेकर कई तरह के सवाल उठ रहे हैं। अफगानिस्तान की पूर्व सांसद मरियम सोलाइमनखिल ने कहा है कि आईएसआई चीफ काबुल इसलिए पहुंचे हैं । ताकि आतंकी संगठन हक्कानी नेटवर्क के नेता को तालिबानी सरकार का प्रमुख बनवा सकें और मुल्ला अब्दुल गनी बरादर को प्रमुख बनने से रोक सकें।

महिलाओं पर तालिबान का हमला

अपने हकों को लेकर अफगान में महिलाएं तालिबान के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन कर रही है। इस दौरान उन्हें आंसू गैस छोड़कर रोकने की कोशिश की। दो दिन से प्रदर्शन कर रहीं इन महिलाओं का कहना है कि नई सरकार में उनकी भागीदारी होनी चाहिए और अहम भूमिका मिलनी चाहिए। प्रदर्शन के दौरान तालिबान ने उन पर जानलेवा हमला भी किया।

अगले हफ्ते तक नई सरकार बनाएगा तालिबान

तालिबानी नेता सरकार बनाने की तैयारी में थे। लेकिन पंजशीर में विद्रोही गुट के साथ चल रही लड़ाई के बाद इसे टाल दिया गया है। इसलिए सरकार का गठन पर अब अगले हफ्ते तक किया जाएगा।

Related posts

भारतीयों की बढ़ी मुश्किलें, ट्रंप ने एच-1 बी वीजा के नियमों में किया बदलाव

Breaking News

योगी का फरमान लागू होता नहीं दिख रहा- सपा

piyush shukla

आखिर क्यों भारती ने चुना ड्रग्स का रास्ता! क्या स्टारडम ने भुला दिया ‘मुश्किल अतीत’?

Hemant Jaiman