featured दुनिया देश भारत खबर विशेष

श्रीलंका में नहीं सुधर रहे हालात, गृह युद्ध का बना खतरा, पूर्व PM ने परिवार सहित नेवल बेस में ली शरण, हिंसा में अब तक 8 लोगों की मौत

sri lanka protest over chinese investment turns ugly 1483803507 श्रीलंका में नहीं सुधर रहे हालात, गृह युद्ध का बना खतरा, पूर्व PM ने परिवार सहित नेवल बेस में ली शरण, हिंसा में अब तक 8 लोगों की मौत

श्रीलंका में लगातार हालात बिगड़ रहे हैं । जिससे दिनप्रति वहां का माहौल बिगड़ता जा रहा है ।

 

यह भी पढ़े

 

84 साल की उम्र में मशहूर संतूर वादक पंडित शिव कुमार शर्मा का निधन, प्रधानमंत्री मोदी सहित कई शख्सियतों ने जताया शोक

आपको बता दें कि बीते सोमवार को प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे ने विपक्ष के दबाव में इस्तीफा दे दिया था । उनके इस्तीफे से नाखुश समर्थकों ने राजधानी कोलंबो में हिंसक घटनाओं को अंजाम दिया। इसके बाद उनके विरोधी भी उग्र हो गए। जब राजपक्षे के समर्थकों ने कोलंबो छोड़कर जाने की कोशिशें कीं। उनकी गाड़ियों को जगह-जगह निशाना बनाया गया।

sri lanka protest over chinese investment turns ugly 1483803507 श्रीलंका में नहीं सुधर रहे हालात, गृह युद्ध का बना खतरा, पूर्व PM ने परिवार सहित नेवल बेस में ली शरण, हिंसा में अब तक 8 लोगों की मौत

 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पूर्व PM महिंदा राजपक्षे और उनके परिवार ने पूर्वी श्रीलंका के त्रिनकोमाली नेवल बेस में शरण ली है। उन्हें एक हेलिकॉप्टर के जरिए बेस तक ले जाया गया। वहीं, इस बात की जानकारी मिलने पर बेस के बाहर प्रदर्शनकारियों की भीड़ जमा हो गई है।

हिंसा में अब तक 8 की मौत

इस हिंसा में अब तक 8 लोगों की मौत हुई है, जबकि 200 से अधिक लोग घायल हैं। कोलंबो नेशनल हॉस्पिटल ने बताया कि इलाज के लिए 217 घायल भर्ती किए गए हैं।

protest 2 श्रीलंका में नहीं सुधर रहे हालात, गृह युद्ध का बना खतरा, पूर्व PM ने परिवार सहित नेवल बेस में ली शरण, हिंसा में अब तक 8 लोगों की मौत

सरकार ने हेल्प नम्बर किया जारी

श्रीलंका में फंसे भारतीयों के लिए हेल्पलाइन नंबर +94-773727832 और ईमेल ID cons.colombo@mea.gov.in जारी की गई है।

Terrorists in Lucknow: सुरक्षा कारणों के चलते स्थगित हुआ इन अभ्यर्थियों का विरोध प्रदर्शन

देश में एक महीने में 2 बार लगा आपातकाल

खराब आर्थिक हालात के मद्देनजर आम लोगों ने शुक्रवार को नेशनल असेंबली में हिंसक प्रदर्शन किए थे। इसके बाद राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने फिर से इमरजेंसी लगाने की घोषणा की थी। श्रीलंका में एक महीने बाद दोबारा आपातकाल लगाया गया है। इसके पहले 1 अप्रैल को भी इमरजेंसी लगाई गई थी, जिसे 6 अप्रैल को हटा दिया गया था।

 

5d7nik74 sri lanka protest afp 160x120 03 April 22 श्रीलंका में नहीं सुधर रहे हालात, गृह युद्ध का बना खतरा, पूर्व PM ने परिवार सहित नेवल बेस में ली शरण, हिंसा में अब तक 8 लोगों की मौत

Related posts

पंजाब विधानसभा में जबरदस्त हंगामा, सदन में हाथापाई पर उतरे अकाली और कांग्रेस विधायक

Saurabh

पीएनबी घोटाला: बीजेपी का कांग्रेस पर पलटवार,अगला नंबर राहुल-सोनिया का

Vijay Shrer

दिखने लगा मोदी के श्रीलंका दौरे का असर, चीन को लगा करार झटका

kumari ashu