August 12, 2022 11:40 am
featured हेल्थ

कोरोना का कहरः इम्युन सिस्टम हो रहा कमजोर तो अपनाएं ये तरीके

immunity कोरोना का कहरः इम्युन सिस्टम हो रहा कमजोर तो अपनाएं ये तरीके

जब से कोरोना लोगों की जिंदगी में आया है तब से उनके आम जीवन में पूरी तरह बदलाव आ गया है। फिर चाहे वह उनके काम करने का तरीका हो या खान पान का । हर चीज में बदलाव आ गया है। अब लोग अपनी सेहत पर पूरी तरह से ध्यान दे रहें है। ताकि कोरोना से बचा जा सके। कोरोना ने लोगों को इस बात का बखूबी एहसास कराया है कि स्वस्थ जीवन के लिए रोग-प्रतिरोधक क्षमता का बेहतर होना कितना जरूरी है। यह जटिल नेटवर्क ही वो हथियार है जो हमारे शरीर को बीमारियों और संक्रमण से सुरक्षित रखता है। शरीर के किसी भी दूसरे हिस्से की तरह, प्रतिरक्षा प्रणाली भी साल-दर-साल कमजोर होती जाती है. जिसका सीधा मतलब ये है कि हमारे बीमार पड़ने की आशंका बढ़ जाती है. हमारे संक्रमित होने की आशंका बढ़ जाती है।

‘इम्युन सिस्टम को लंबे समय तक दुरुस्त रखें’

यह एक बड़ा कारण है कि ऐसे समय में जब कोविड महामारी ने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया तो बुजुर्गों को ज्यादा एहतियात बरतने के दिशा-निर्देश दिए गए. विशेषज्ञों ने स्पष्ट तौर पर कहा कि जो लोग 65 साल की उम्र के पार हैं, उनके संक्रमित होने की आशंका काफी अधिक है। हालांकि यह जरूरी नहीं है कि हमारा इम्यून सिस्टम बढ़ती उम्र के समानुपात में ही कमजोर हो। ऐसे कई लोग है जिनकी उम्र 80 साल है। लेकिन उनका इम्यून सिस्टम 62 साल का है. कई मामले इसके बिल्कुल उलट भी होते हैं। अच्छी खबर यह है कि हम अपने इम्युन सिस्टम के कमजोर होने की प्रक्रिया को कम कर सकते हैं और उसके लिए हमें सिर्फ कुछ बातें अपनानी हैं.। लेकिन इससे पहले की हम उन चरणों की बात करें जिससे इम्युन सिस्टम को लंबे समय तक दुरुस्त रखा जा सकता है, ये याद कर लेना जरूरी है कि हमारा इम्युन सिस्टम काम कैसे करता है ।

दो तरह की होती है कोशिकाएं

इम्युन सिस्टम की दो शाखाएं हैं. हर एक शाखा अलग प्रकार की श्वेत रुधिर कोशिकाओं से बनी होती है। ये कोशिकाएं विशेष तौर पर हमारे शरीर की सुरक्षा के लिए काम करती हैं। जन्मजात रोग-प्रतिरोधक प्रतिक्रिया हमारे शरीर की सुरक्षा के लिए प्राथमिक तौर पर उत्तरदायी होती हैं. जैसे ही हमारे शरीर में कोई बाहरी चीज या रोगाणु प्रवेश करता है, हमारा इम्युन सिस्टम एक्टिव हो जाता है।

इसके अलावा एक किलर सेल्स भी होती हैं जो वायरस और कैंसर से लड़ने का काम करती हैं. जब हम बूढ़े होने लगते हैं तो ये तीनों कोशिकाएं भी तुलनात्मक तौर पर ठीक से काम नहीं कर पातीं.। आपको बता दें कि यह सबकुछ इस बात पर निर्भर करता है कि कोई शख्स कितना फिट है। लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि आसान से व्यायाम करना जैसे चलना, सीढ़ी चढ़ना, हल्का वजन उठाना भी एक अच्छी शुरुआत हो सकती है.। इससे साथ आपका अच्छा आहार भी आपके इम्यून सिस्टम को कमजोर नहीं होने देगा।

Related posts

रूस करेगा अगली पीढ़ी के हेलीकॉप्टर इंजन पर 2021 में काम

Samar Khan

यूपी में पानी की बूंद-बूंद सहेजेंगे शासकीय और अर्धशासकीय भवन, जानिए पूरा प्‍लान  

Shailendra Singh

देशहित में मोदी कड़े फैसले लेने को तैयार: जेटली

bharatkhabar