जम्मू-कश्मीर में अल्पसंख्यक आयोग बनाने की अर्जी पर सुनवाई एक माह टली

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर में अल्पसंख्यक आयोग बनाने की मांग करनेवाली एक जनहित याचिका पर सुनवाई चार हफ्ते के लिए टाल दी है। याचिकाकर्ता अंकुर शर्मा ने अपना पक्ष रखने के लिए समय देने की मांग की जिसके बाद कोर्ट ने चार हफ्ते बाद अंतिम सुनवाई करने का आदेश दिया। पिछली सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि हम जम्मू-कश्मीर सरकार को अल्पसंख्यक आयोग गठित करने के लिए निर्देश नहीं दे सकते हैं। कोर्ट ने केंद्र सरकार को निर्देश दिया था कि वो इसके लिए जम्मू-कश्मीर सरकार से बात करे। केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि वे राज्य सरकार से बातचीत कर कोर्ट को बताएंगे ।

jammu and kashmir
jammu and kashmir

बता दें कि 8 अगस्त 2017 को सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र के जवाब पर केंद्र और जम्मू-कश्मीर सरकार दोनों को फटकार लगाई थी। तत्कालीन चीफ जस्टिस जेएस खेहर की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा था कि आप तीन महीने के अंदर इस पर अपनी रिपोर्ट दाखिल करें। सुनवाई के दौरान जम्मू-कश्मीर के हलफनामे को कोर्ट ने खतरनाक बताया था। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि था ये हमारा मजाक है। इसके बाद जम्मू-कश्मीर सरकार ने तुरंत अपना हलफनामा वापस ले लिया। केंद्र ने कहा था कि सरकार कई स्तरों पर सलाह-मशविरा कर रही है।

वहीं याचिकाकर्ता अंकुर शर्मा जम्मू के वकील हैं। उन्होंने याचिका दायर कर मांग की है कि राज्य में अल्पसंख्यक आयोग का गठन किया जाए ताकि राज्य से अल्पसंख्यकों के धार्मिक और भाषायी हित सुरक्षित रहें। याचिका में कहा गया है कि राज्य में करोड़ों रुपये अल्पसंख्यकों के नाम पर खर्च हो रहे हैं। राज्य में मुस्लिमों को अल्पसंख्यक का दर्जा दिया गया है लेकिन 2011 की जनगणना के मुताबिक राज्य में मुस्लिमों की आबादी 68.31 फीसदी है। याचिका का जम्मू-कश्मीर की सरकार ने विरोध करते हुए कहा था कि राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग एक्ट 1992 को जम्मू-कश्मीर में लागू नहीं करने का ये मतलब नहीं है कि वहां के अल्पसंख्यकों को सुविधाएं नहीं मिलेंगी।

साथ ही राज्य सरकार ने दलील दी थी कि कोर्ट किसी खास मसले पर कानून बनाने के लिए निर्देश नहीं दे सकती है। 6 फरवरी 2017 को सुप्रीम कोर्ट ने हलफनामा दायर नहीं करने पर केंद्र सरकार पर तीस हजार रुपए का जुर्माना लगाया था। तत्कालीन चीफ जस्टिस जेएस खेहर ने केंद्र का प्रतिनिधित्व कर रहे तुषार मेहता से कहा था कि अधिकतर मामलों में आपका रुख ऐसा ही रहता है।