featured साइन्स-टेक्नोलॉजी हेल्थ

RESEARCH: कोरोना होते हुए ब्रेस्टफीडिंग!, दूध पिलाने से नवजात बच्चों में TRANSFER हो सकता है वायरस?

breastfeeding week main iktpd7 RESEARCH: कोरोना होते हुए ब्रेस्टफीडिंग!, दूध पिलाने से नवजात बच्चों में TRANSFER हो सकता है वायरस?

ब्रेस्टफीडिंग के जरिए एक कोरोना पॉजिटिव मां अपने बच्चे को संक्रमित कर सकती है या नहीं, लोगों को इस पर बहुत कंफ्यूजन रहता है। इसे दूर करने के लिए हाल ही में अमेरिकी वैज्ञानिकों ने एक रिसर्च की है।

यह भी पढ़े

 

सनकी तानाशाह का नया फरमान, खाद की कमी हुई तो लोगों से मांगा मानव अपशिष्ट

वायरस ट्रांसफर होने का कोई सबूत नहीं

अमेरिकी वैज्ञानिकों की ये रिसर्च कहती है कि ब्रेस्टफीडिंग के जरिए संक्रमित महिला से उसके बच्चे में वायरस ट्रांसफर होने का अब तक कोई भी सबूत नहीं मिले हैं। इस शोध को पीडियाट्रिक रिसर्च जर्नल में प्रकाशित किया गया है।

ब्रेस्ट मिल्क में नहीं मिला कोरोना

वैज्ञानिकों के अनुसार, ब्रेस्ट मिल्क में बहुत ही कम मात्रा में कोरोना वायरस का जेनेटिक मटेरियल पाया गया है। हालांकि इस मटेरियल से वायरस मल्टीप्लाई होकर दूध पीते बच्चे को संक्रमित कर सकता है, इसका कोई क्लिनिकल सबूत नहीं मिला है।

ब्रेस्ट मिल्क से बच्चे को कोई खतरा नहीं

यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया के शोधकर्ताओं ने इस रिसर्च में 110 महिला वॉलंटियर्स के ब्रेस्ट मिल्क की जांच की। इन मांओं ने यूनिवर्सिटी रिसर्च के लिए अपने सैंपल्स डोनेट किए थे। इनमें से 65 महिलाएं डोनेशन के समय कोरोना संक्रमित थीं। वहीं 9 महिलाएं ऐसी थीं, जिनमें वायरस के लक्षण थे, लेकिन उनकी रिपोर्ट नेगेटिव थी।

वायरस का जेनेटिक मटेरियल मिला

इसके अलावा, 36 महिलाएं ऐसी भी थीं, जिन्होंने लक्षण होने के बावजूद अपना टेस्ट नहीं करवाया था। वैज्ञानिकों को 110 में से 7 सैंपल्स यानी 6% ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिलाओं में कोरोना वायरस के मूल रूप (SARS-CoV-2) का जेनेटिक मटेरियल मिला। ये महिलाएं या तो कोरोना संक्रमित थीं या इनमें वायरस के लक्षण थे।

ब्रेस्ट मिल्क में वायरस मल्टीप्लाई नहीं करता

शोधकर्ताओं ने रिसर्च के दूसरे फेज में इन 7 महिलाओं के ब्रेस्ट मिल्क के दोबारा सैंपल्स लिए। 1 से 97 दिन के बीच लिए गए इन सैंपल्स में कोरोना का जेनेटिक मटेरियल नहीं पाया गया। इसका सीधा मतलब है कि ब्रेस्ट मिल्क में वायरस मल्टीप्लाई नहीं हुआ था।

ब्रेस्टफीडिंग से बच्चे को कोई खतरा नहीं

रिसर्च के लीड वैज्ञानिक पॉल क्रोगस्टाड कहते हैं, “मां का दूध शिशुओं के लिए पोषण का एक बहुत बड़ा सोर्स है। रिसर्च में हमें इस बात का कोई सबूत नहीं मिला कि कोविड-19 से संक्रमित मांओं के ब्रेस्ट मिल्क में कोरोना वायरस मल्टीप्लाई होता है। साथ ही इससे शिशुओं के संक्रमित होने का भी कोई सबूत नहीं मिला है, जिससे पता चलता है कि ब्रेस्टफीडिंग से उन्हें कोई खतरा नहीं है।”

पॉजिटिव होने पर कैसे कराएं ब्रेस्टफीडिंग?

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) कहता है कि ऐसी महिलाएं बच्चों को ब्रेस्टफीडिंग करा सकती हैं, लेकिन कुछ सावधानियां बरतकर। जैसे- अपने आसपास की चीजों को डिसइंफेक्ट करें, बच्चे को गोद में लेने से पहले हाथों को साबुन-पानी या सैनेटाइजर से साफ करें और मास्क लगाए रहें। विशेषज्ञों के अनुसार, ज्यादातर माएं समझती हैं कि ब्रेस्टफीडिंग सिर्फ बच्चे के लिए जरूरी है, लेकिन ऐसा नहीं है। मांओं को भी इसके कई फायदे मिलते हैं। जैसे- डिलीवरी के बाद बढ़ा हुआ वजन कंट्रोल होने लगता है। इससे डायबिटीज, हृदय रोग और कैंसर जैसी बीमारियों का खतरा भी घटता है।

चलिए कम से कम से इतना तो जरूर है कि इस रिसर्च के जरिए ये तो साफ हो गया कि कोरोना पॉजिटिव मां अपने बच्चे को दूध पिला सकती है मगर कुछ सावधानियों के साथ।

Related posts

अजब-गजब: देखें रिक्शेवाले के साथ नामांकन कराने क्यों गए भाजपाई

bharatkhabar

सीएम नीतीश और पीएम मोदी ने की मुलाकात, चर्चाओं का दौर जारी

piyush shukla

आफगानिस्तान में बिगड़ते हालात, भारत ने राजनयिकों को वापस बुलाया

Saurabh