फार्मासिस्ट फेडरेशन ने मुख्यमंत्री योगी से लगाई गुहार, कोरोना काल में अपनी जान दांव पर लगाई...

लखनऊ: कोरोना प्रबंधन और संक्रमण पर लगाम लगे, इसके लिए यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लगातार टीम9 के साथ बैठक कर रहे हैं। इसी सिलसिले में गुरुवार को भी उन्हें जरूरी दिशानिर्देश जारी किए।

बेहतर हो वैक्सीनेशन का टाइमस्लाट

सीएम योगी आदित्यनाथ ने बैठक में कहा कि संक्रमण पर लगाम लगाने के लिए टेस्टिंग, ट्रेसिंग और ट्रीटमेंट का काम तेजी से किया जाना चाहिए। इसके साथ ही टीकाकरण पर भी जोर देने की जरूरत है। यूपी देश में सर्वाधिक आबादी वाला राज्य है। ऐसे में यहां लगातार टेस्टिंग बढ़ाने के कारण ही संक्रमण पर लगाम लगी है। मौजूदा पॉजिटिविटी रेट 0.02 फ़ीसदी है, 21 जुलाई तक के आंकड़ों में उत्तर प्रदेश के अंदर चार करोड़ 20 लाख से अधिक लोगों को वैक्सीन की डोज लगाई जा चुकी है।

अब ऑनलाइन पंजीकरण के माध्यम से टाइम शॉट जारी किया जा रहा है, इसके बाद टीकाकरण हो रहा है। इसी का परिणाम है कि उत्तर प्रदेश के कई जनपदों में अब संक्रमण पूरी तरह से खत्म हो गया है। अलीगढ़, बलरामपुर, बस्ती, एटा, महोबा, ललितपुर, हाथरस, श्रावस्ती में एक भी नया मरीज नहीं मिला। प्रदेश में वर्तमान एक्टिव मरीजों की संख्या 1028 है।

बीते 24 घंटे के अंदर 234000 लोगों का सैंपल लिया गया, जिनमें से 53 नए मरीज मिले हैं। 44 जिलों में संक्रमण खत्म हो गया है। जबकि 31 जिले ऐसे हैं जहां इकाई के अंक में मरीज पाए गए हैं। अभी तक 6 करोड़ से अधिक लोगों की जांच हो चुकी है।

चलेगा घर-घर दस्तक अभियान

कोरोना के साथ-साथ अन्य बीमारियों पर लगाम लगाने के लिए घर-घर दस्तक अभियान प्रभावी ढंग से चलाने की बात कही गई। जिसमें डेंगू, मलेरिया, इंसेफलाइटिस जैसी बीमारियों की पहचान करना और उनका उपचार करना मुख्य लक्ष्य रखा गया है। इतना ही नहीं 26 जुलाई को आयुष्मान भारत योजना के तहत गोल्डन कार्ड बनाए जाने का विशेष अभियान भी संचालित किया जाएगा।

बाढ़ क्षेत्रों में विशेष व्यवस्था

मानसून के सीजन में बाढ़ और अतिवृष्टि जैसी स्थिति देखने को मिलती है। इससे निपटने के लिए लगातार मॉनिटरिंग करने की बात सीएम की तरफ से कही गई। एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और आपदा प्रबंधन टीमों को 24 घंटे एक्टिव रहने के लिए कहा गया है। नाव और अन्य राहत सामग्री भी इन क्षेत्रों में पहुंचाने की निर्देश दिए गए, राहत कार्यों में किसी भी तरह की देरी ना किए जाने की बात कही गई।

इसके अलावा सीएम ने कहा कि ऐसे लोग जो अंत्योदय कार्ड परिवार, प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना या मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना जैसी सुविधाओं से आच्छादित नहीं है। उन सभी लोगों को मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना में शामिल किया जाएगा। इस निर्णय से समाज के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति को भी अंत्योदय कार्डधारक जैसी सुविधाएं मिलती रहेंगी। 40 लाख से अधिक अंत्योदय कार्डधारक परिवार इस निर्णय का सीधा फायदा उठाएंगे। सभी पात्र लोगों को योजना का लाभ मिलेगा।

UP News: एसिड अटैक पीड़ितों के लिए योगी कैबिनेट का बड़ा फैसला

Previous article

कोरोना के कारण 30 फ़ीसदी होटल बिकने की कगार पर

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.