Breaking News featured देश

झारखंड के गोड्डा में कोयला खदान धंसी, 50 मजदूर सहित कई वाहने दबे

coal झारखंड के गोड्डा में कोयला खदान धंसी, 50 मजदूर सहित कई वाहने दबे

रांची। झारखण्ड के गोड्डा जिले में गुरुवार की शाम एक बड़ा हादसा हो गया। राजमहल परियोजना के ललमटिया में शाम करीब 8 बजे ईसीएल कोयला खदान की जमीन धंस गई जिसकी वजह से वहां पर काम कर रहे करीबन 50 लोगों के मिट्टी में धंस गए। इस हादसे में तकरीबन 40 वाहन भी दब गए जिनमें हाईवा, पेलोडर और डम्पर शामिल है। हादसे के तुरंत बाद ही राहत और बचाव कार्य जारी है जिसमें कई लोगों की मौत और घायल होने की आशंका जताई जा रही है। इसके साथ ही एनडीआरएफ की टीम भी रावाना हो गई है।

coal झारखंड के गोड्डा में कोयला खदान धंसी, 50 मजदूर सहित कई वाहने दबे

खदान में हुए हादसे के बाद घायलों को गोड्डा हॉस्पिटल लाया गया है। मृतकों के बारे में आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है। दुर्घटना स्थल वाली साईट पर महालक्ष्मी कंपनी का कार्य चल रहा था। करीब छह माह पहले इसी खदान में एक ड्रिल मशीन डूब गयी थी। अब इस घटना ने सबको झकझोर दिया है। दुर्घटना के बाद से वहां के मजदूरों में काफी आक्रोश है।

coal mine1 झारखंड के गोड्डा में कोयला खदान धंसी, 50 मजदूर सहित कई वाहने दबे

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने खदान दुर्घटना पर दुःख जताया है। उन्होंने उपायुक्त से फोन पर बात कर राहत और बचाव कार्य तेजी से चलाने के निर्देश दिए। साथ ही वरिष्ठ अधिकारियों को घटना स्थल पर मुस्तैद रहने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री स्वयं मामले पर नजर बनाये हुए हैं। मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव व पुलिस महानिदेशक को भी राहत व बचाव कार्य को लेकर आवश्यक निर्देश दिए हैं। अब तक खदान में बिजली की समुचित व्यवस्था नहीं होने के कारण रेस्क्यू कार्य में काफी कठिनाई आ रही है। यदि जल्द ही हालात में सुधार नहीं हुआ तो मलबे में दबे ज्यादातर लोगों के मरने की संभावना है। करीब 50 से 60 लोग मलबे में फंसे हुए हैं।

coal mine झारखंड के गोड्डा में कोयला खदान धंसी, 50 मजदूर सहित कई वाहने दबे

बता दें कि खन्ना स्थल पर पिछले दिनों ईस्टर्न कोलफील्ड के सीएमडी राजीव रंजन मिश्रा ने दौरा कर खदान में खुदाई के लिए मना किया था एवं अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए थे। इसके बावजूद राजमहल परियोजना प्रबंधन ने संबंधित कंपनी को कोई ठोस निर्देश नहीं दिए। इसके पूर्व भी परियोजना के खान क्षेत्र में 3 साल पहले सौम्या कंपनी के साइट पर जमीन धंस गई थी, जिसमें कई मशीनें दब गई थी एवं 2 लोग मारे गए थे।

Related posts

12वीं सीबीएसई का रिजल्ट घोषित, कुल 83.01 प्रतिशत स्टूडेंट्स पास

mohini kushwaha

सऊदी अरब और ईरान के बीच बढ़ा बवाल, ईरानी टैंक को बम से उड़ाया

Rani Naqvi

सीएसके के होम ग्राउंड में बदलाव, राजस्थान से चेन्नई के बजाए पुणे में भिड़ेगी

lucknow bureua