September 17, 2021 3:32 pm
featured यूपी

मुख्यसचिव का निर्देश, गांवों में कैम्प लगवाकर बनवाएं गोल्डन कार्ड

Golden Card

लखनऊ। आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड की प्रगति समीक्षा करते हुए मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने निर्देश दिया है कि जिन क्लस्टर्स में आच्छादन औसत से कम है, उनको चिन्हित कर वहां पर विशेष कैम्प लगवाकर शत-प्रतिशत गोल्डन कार्ड बनवाये जायें।
उन्होंने कहा कि इस कार्य में ग्राम प्रधानों का भी सहयोग प्राप्त किया जाये तथा कैम्प आयोजन से पूर्व पर्याप्त प्रचार-प्रसार कराकर जन सामान्य को इससे होने वाले फायदों के बारे में बताया जाये।

समीक्षा के दौरान बताया गया कि अब तक एक करोड़ 42 लाख से अधिक गोल्डन कार्ड बनाये जा चुके हैं तथा 26 जुलाई, 2021 से प्रारंभ अभियान के पहले दिन 26 हजार से अधिक कार्ड बनवाये गये हैं, जिन्हें आगामी दिवसों में बढ़ाकर 50 हजार कार्ड प्रतिदिन बनाये जाने का प्लान है।

आरोग्य केन्द्र पर उपलब्ध होंगी स्वास्थ्य सेवाएं
जन सामान्य को उनके घर के समीप स्वास्थ्य सेवायें उपलब्ध कराने के उद्देश्य से स्वास्थ्य उप केन्द्रों, पीएचसी एवं अर्बन पीएचसी के स्तर पर हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर की स्थापना की गई है, जिनमें प्रशिक्षित स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं द्वारा स्वास्थ्य सेवायें प्रदान की जा रही हैं। वर्तमान में इन केन्द्रों द्वारा 07 प्रकार की सेवायें प्रदान की जा रही हैं। इन केन्द्रों में विभिन्न प्रकार की जांचे एवं औषधियों का प्राविधान किया गया है। हेल्थ एण्ड वेलनेस केन्द्रों के माध्यम से स्वास्थ्य प्रोत्साहन सम्बन्धित विभिन्न गतिविधियों की भी जानकारी दी जाती है। मुख्य सचिव ने इन केन्द्रों को पंचायती राज संस्थाओं से जोड़ने के निर्देश दिये ताकि जन सामान्य इनका अधिक से अधिक लाभ उठा सकें। अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य ने बताया कि वर्तमान में 6641 स्वास्थ्य उपकेन्द्र, 1653 पीएचसी एवं 433 अर्बन पीएचसी को हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर के रूप में उच्चीकृत किया गया है तथा चालू वित्तीय वर्ष में करीब 15624 हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर स्थापित किये जाने का लक्ष्य है।

Related posts

बदलाव : अब इन बीमारियों से हैं ग्रसित, तो नहीं मिलेगा होम आइसोलेशन

sushil kumar

दुनिया की कोई ताकत कश्मीर को भारत से अलग नहीं कर सकती : राजनाथ

bharatkhabar

रुड़की: अवैध तरीके से हो रहे भवन निर्माण को पुलिस ने रुकवाया

pratiyush chaubey