featured यूपी

गोरखपुर में बाढ़ का कहर, जनपद में मोर्चा संभालने पहुंची एनडीआरएफ की और टीमें

गोरखपुर में बाढ़ का कहर, जनपद में मोर्चा संभालने पहुंची एनडीआरएफ की और टीमें

गोरखपुर: जिले में बाढ़ के कारण हालात लगातार बिगड़ते चले जा रहे हैं, शहर से लेकर देहात तक का इलाका पानी में डूब चुका है लगातार बढ़ रहे नदियों के जलस्तर के खौफ से लोगों ने पलायन शुरू कर दिया है। पूरा गांव या तो बांधों पर शरण ले रहा है या फिर पक्के मकान वाले अपनी छतों पर पनाह ले रहे हैं।

आपको बता दें कि गुरुवार को सुबह राप्ती नदी अपने उफान पर होने के कारण तहसील बांसगांव के अंतर्गत कौड़ीराम ब्लाक के ग्राम सभा भरवलिया, बसावनपुर का रिंग बांध टूट जाने के कारण अगल-बगल के सभी गांव जलमग्न हो गए और वहां के लोगों में दहशत का माहौल बन गया। जिला प्रशासन की सूचना पर पहुंची एनडीआरएफ की टीम ने गुरुवार को 64 लोगों का रेस्क्यू ऑपरेशन करके सुरक्षित स्थान पर पहुंचा दिया था।

आज लगातार दूसरे दिन भी निरीक्षक सभाजीत यादव के नेतृत्व में रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जा रहा है और लोगों को सुरक्षित स्थान पर एनडीआरएफ के जवानों द्वारा पहुंचाया जा रहा है। खबर लिखे जाने तक एनडीआरएफ की टीम द्वारा 84 लोगों का रेस्क्यू ऑपरेशन कर लिया गया था। जिसमें 40 पुरुष, 30 महिला तथा 14 बच्चे शामिल हैं। मौके पर मौजूद स्थानीय लोगों ने भी बचाव अभियान में अपना सहयोग दिया। जिला प्रशासन की चुस्ती और एनडीआरएफ की त्वरित कार्रवाई के कारण लोगों को सुरक्षित निकाला जा रहा है। जिला प्रशासन और स्थानीय लोगों के द्वारा एनडीआरएफ के इस साहसिक कार्य की खूब प्रशंसा की जा रही है। गोरखपुर में जबसे बाढ़ का कहर आया है तब से आम लोगों के लिए एनडीआरएफ की टीम किसी देवदूत से कम नहीं है। दिन हो या रात एनडीआरएफ के जवान अपनी जान पर खेलकर लोगों के राहत और बचाव के काम में लगे हुए हैं।

वाराणसी से रात में पहुंची एनडीआरएफ की दो और टीमें जिला प्रशासन गोरखपुर की पहल पर 11 वीं वाहिनी राष्ट्रीय आपदा मोचन बल के कमांडेंट श्री मनोज कुमार शर्मा के दिशा निर्देश पर गोरखपुर में बिगड़े हुए बाढ़ के हालात को देख कर देर रात वाराणसी से 2 टीमें गोरखपुर में पहुंची। चौरीचौरा तहसील के अंतर्गत फरेन नाले को उफनाने से वहाँ के कई गांव जलमग्न हो गये है जिससे वहाँ के लोगो में अफरा तफरी का माहौल हो गया है। जिला प्रशासन की सूचना पर उप निरीक्षक मनीष चौबे के नेतृत्व में एनडीआरएफ की टीम ने प्रभावित गावों का रैकी किया। टीम नकहा टोला, सोनबरसा टोला, भक्ता, सिलहटा, तथा मुंडेरा गांव में जाकर वहां के लोगों से मिलकर वहां की परिस्थितियों के बारे में जाना। टीम किसी भी प्रकार की अनहोनी को रोकने के लिए तैयारी हालात में है।इन गावों का रैकी करने के दौरान अपर जिला अधिकारी श्री राजेश कुमार, नायब तहसीलदार श्रीमती अलका सिंह एवं प्रभावित सभी गावों के लेखपाल उपस्थित थे।

Related posts

उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने दिया इस्तीफा, जानिए, क्या रही वजह?

Saurabh

कर्मचारी परिषद के इस दावे से मुश्किल में आ सकती है योगी सरकार

sushil kumar

प्रियंका चोपड़ा ने छोड़ी भारत तो सलमान के पिता ने कहा, ‘कोई भी आ जाएगा उसकी जगह’

mohini kushwaha