featured देश

6 सितंबर को कर्मो देवी के साथ देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी करेंगे वर्चुल संवाद

114259550 1599326098 06modi 3c 6 सितंबर को कर्मो देवी के साथ देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी करेंगे वर्चुल संवाद

कहानी हिमाचल प्रदेश के उना की कर्मो देवी की है जिन्होंने पैर फ्रैक्चर होने के बावजूद काम के प्रति समर्पण नहीं छोड़ा। कर्मो देवी ने कुल 22,363 कोविड वैक्सीन लगाई। कर्तव्य परायणता की मिसाल और मृदुभाषी कर्मो देवी की अधिकारी भी प्रशंसा कर रहे हैं। वहीं प्रधानमंत्री के साथ संवाद को लेकर भी कर्मो देवी उत्साहित दिख रही हैं l

बता दें कि अगर अपने काम के प्रति समर्पण हो तो इंसान वो कर जाता है जिसके ऊपर उसे ख़ुद भरोसा नहीं होताl जी हाँ जिला उना की रक्कड़ कॉलोनी निवासी कर्मो देवी ने कोविड महामारी के दौर में काम के प्रति समर्पण की ऐसी मिसाल पेश की है। जो लंबे वक्त तक याद रखी जाएगी। क्षेत्रीय अस्पताल ऊना में बतौर महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता तैनात कर्मो देवी ने कोविड महामारी की रोकथाम के लिए छेड़े गए वैक्सीनेशन अभियान में 2 सितम्बर 2021 तक अकेले कुल 22,363 कोविड वैक्सीन लगाई हैं।

pti prime minister narendra modi pm india pib 948257 1612616683 6 सितंबर को कर्मो देवी के साथ देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी करेंगे वर्चुल संवाद

वहीं वैक्सीनेशन अभियान के दौरान महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता कर्मो देवी ने 31 अगस्त तक कुल 115 वैक्सीनेशन सत्रों का हिस्सा लिया। जिनमें उन्होंने 21,881 लाभार्थियों का टीकाकरण किया है। चार जुलाई को कर्मो देवी अस्पताल में ड्यूटी के दौरान फिसल कर गिर गई, जिसमें उनका पैर फ्रैक्चर हो गया। पांच जुलाई को भी वह ड्यूटी पर तैनात रही, लेकिन दर्द बढ़ने पर डॉक्टर को दिखाया तो उन्होंने चार हफ्ते तक आराम की सलाह दी।

कर्मो देवी एक हफ्ते की छुट्टी के बाद काम पर वापस लौट आई। चोट लगने पर जिन दिनों में वह अपने घर पर विश्राम कर सकती थी, उतने दिनों में उन्होंने 4,219 वैक्सीन लगा दिए। यही नहीं 10 अगस्त से 14 अगस्त तक चलाए गए विशेष वैक्सीनेशन अभियान में उन्होंने 3,340 लाभार्थियों का टीकाकरण किया।

z2 6 सितंबर को कर्मो देवी के साथ देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी करेंगे वर्चुल संवाद

कर्मो देवी कहती हैं “काम करके मुझे अच्छा लगता है। आज जब पूरी दुनिया में कोरोना वायरस एक बड़ी चुनौती है, तब सिर्फ वैक्सीनेशन लगवाकर ही हम सभी इस खतरनाक वायरस से बच सकते हैं। जान बचाने में वैक्सीनेशन कारगर है और मुझे खुशी है कि टीकाकरण में मुझे अपनी भागीदारी सुनिश्चित करने का अवसर मिला है। इसमें वरिष्ठ अधिकारियों ने भी मुझे भरपूर सहयोग दिया।”
जिला ऊना के रक्कड़ कॉलोनी की निवासी कर्मो देवी के पति शिक्षा विभाग से सेवानिवृति हो चुके हैं तथा बेटा निजी कंपनी में नौकरी करता है। परिवार ने भी उन्हें वैक्सीनेशन का काम करने के लिए प्रोत्साहित किया। वहीं छः अगस्त को प्रधानमंत्री के साथ होने वाले उनके संवाद के प्रति वो काफ़ी उत्साहित हैं।

Related posts

अलास्का एयरलाइन्स, एक शख़्स अपनी ही सीट पर टॉयलेट करने के आरोप में दोषी, जेल और लगा भारी जुर्माना

Aman Sharma

गोली लगने से घायल पत्रकार विक्रम जोशी की इलाज के दौरान हुई मौत

Rani Naqvi

यूजीसी नेट की पात्रता परीक्षा के आवेदन की तारीखों को बढ़ाया

piyush shukla