February 23, 2024 11:20 pm
featured धर्म

Dev Uthani Ekadashi 2022: आज है देवउठनी एकादशी व्रत, जानें मुहूर्त, पूजा विधि और पारण समय

devuthani Dev Uthani Ekadashi 2022: आज है देवउठनी एकादशी व्रत, जानें मुहूर्त, पूजा विधि और पारण समय

Dev Uthani Ekadashi 2022: आज 04 नवंबर दिन शुक्रवार को देवउठनी एकादशी व्रत है। आज के दिन व्रत रखने और भगवान विष्णु की पूजा करने का विधान है।

ये भी पढ़ें :-

मनी लॉन्ड्रिंग मामले में झारखंड और पश्चिम बंगाल में एकबार फिर ईडी सक्रिय, कई ठिकानों पर मारा छापा

मान्यता है कि इसी दिन से मांगलिक कार्यों की भी शुरुआत होती है। देवउठनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु अपनी चार माह की योग निंद्रा से उठते ही और सृष्टि का कार्यभार संभालते हैं। आइए जानते हैं पूजा का शुभ मुहूर्त….

देवउठनी एकादशी 2022 शुभ मुहूर्त

  • कार्तिक शुक्ल एकादशी तिथि का प्रारंभ: 03 नवंबर, गुरुवार, शाम 07 बजकर 30 मिनट से
  • कार्तिक शुक्ल एकादशी तिथि का समापन: 04 नवंबर, शुक्रवार, शाम 06 बजकर 08 मिनट पर

पूजा का शुभ समय

  • सुबह 06 बजकर 35 मिनट से सुबह 10 बजकर 42 मिनट तक

अभिजित मुहूर्त

  • सुबह 11 बजकर 42 मिनट से दोपहर 12 बजकर 26 मिनट तक

देवउठनी एकादशी व्रत का पारण समय

  • 05 नवंबर, सुबह 06 बजकर 36 मिनट से सुबह 08 बजकर 47 मिनट तक
    द्वादशी तिथि का समापन
  • 05 नवंबर, शाम 05 बजकर 06 मिनट पर

देवउठनी एकादशी व्रत और पूजा विधि

  • आज प्रात: स्नान के बाद देवउठनी एकादशी व्रत और विष्णु पूजा का संकल्प करें. उसके बाद शुभ मुहूर्त में पूजा करें।
  • भगवान विष्णु की मूर्ति या तस्वीर को एक चौकी पर पीले रंग का कपड़ा बिछाकर स्थापित करें। उसके बाद उनको पंचामृत से स्नान कराएं. फिर उन्हें पीले रंग के वस्त्र चढ़ाएं।
  • फिर भगवान विष्णु को चंदन, पीले फूल, हल्दी, रोली, अक्षत्, धूप, नैवेद्य, दीप, बेसन के लड्डू, तुलसी के पत्ते, गुड़ आदि अर्पित करें। इस दौरान ओम नमो भगवते वासुदेवाय नम: मंत्र का उच्चारण करते रहें।
  • इसके बाद विष्णु चालीसा, विष्णु सहस्रनाम और देवउठनी एकादशी व्रत कथा का पाठ करें। फिर घी के दीपक से भगवान विष्णु की आरती करें।
  • पूजा के समापन पर भगवान विष्णु से अपनी मनोकामना व्यक्त करें. फिर दिनभर फलाहार पर रहें। भक्ति और भजन में समय व्यतीत करें. शाम को संध्या आरती करें।

Related posts

अनुष्का वरुण की सुई ने पटाखा की निकाली हवा, कुछ ऐसा रहा हाल

mohini kushwaha

गौरव वल्लभ ने उत्तराखंड सरकार को बताया शराब प्रेमी सरकार, अमित शाह के आरोपों का दिया जवाब

Rani Naqvi

अखिलेश यादव का आरोप, कहा- भाजपा ने समय संसाधन का दुरुपयोग किया

Shailendra Singh