featured दुनिया

उत्तर कोरिया में सामने आया कोरोना का पहला मामला, प्रशासन ने बोर्डर पर लगाया लॉकडाउन

किम जोंग उन उत्तर कोरिया में सामने आया कोरोना का पहला मामला, प्रशासन ने बोर्डर पर लगाया लॉकडाउन

जहां एक तरफ दुनिया के सभी देश कोरोना वायरस से परेशान है। वहीं दूसरी तरफ उत्तर कोरिया इस वायर से अछूता था।

प्योंगयांग। जहां एक तरफ दुनिया के सभी देश कोरोना वायरस से परेशान है। वहीं दूसरी तरफ उत्तर कोरिया इस वायर से अछूता था। लेकिन अब वहां भी एक मामला सामने आने के बाद सरकार में हलचल पैदा हो गई है। पहले केस को आते ही किम जोंग उन प्रशासन ने बॉर्डर पर स्थित केसोंग में लॉकडाउन लगा दिया है। बताया जा रहा है कि जो व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाया गया है वो बॉर्डर पार करके आया था। तीन साल पहले ये व्यक्ति दक्षिण कोरिया गया था। अब अवैध तरीके से ये यहां आया है।

कोरोना का दुष्ट वायरस उ. कोरिया में प्रवेश कर गया: किम

बता दें कि उत्तर कोरिया की मीडिया ने लॉकडाउन की जानकारी देते हुए कहा कि किम जोंग उन को उत्तर कोरिया में कोरोना को लेकर लगता है कि कोरोना ने देश में दस्तक दे दी है। अगर इस व्यक्ति को आधिकारिक तौर पर कोरोना मरीज घोषित कर दिया गया तो ये उत्तर कोरिया में कोरोना वायरस का पहला मरीज होगा।

https://www.bharatkhabar.com/pm-modi-is-talking-about-mind/

अभी तक एक भी कोरोना का केस नहीं मिला था

वहीं कोरोना को लेकर लगातार उत्तर कोरिया का कहना है कि उसके देश में कोरोना का एक भी मामला नहीं है। लेकिन उसके इस दावे पर बाहरी देश सवाल उठा रहे हैं। कोरिया की मीडिया का कहना है कि ये मामला एक भगोड़े व्यक्ति से जुड़ा है। जो सालों पहले उत्तर कोरिया छोड़कर दक्षिण कोरिया भाग गया था। लेकिन पिछले हफ्ते वो अवैध रूप से उत्तर कोरिया में घुस आया। केसीएनए का कहना है कि श्वसन स्राव और खून की जांच से पता चला है कि व्यक्ति को वायरस से “संक्रमित होने का संदेह है। इस व्यक्ति के सपंर्क में आए लोगों को भी क्वारंटाइन कर दिया है।

साथ ही अपने एंटी-वायरस प्रयासों को ‘राष्ट्रीय अस्तित्व का मामला’ बताते हुए उत्तर कोरिया ने इस साल की शुरुआत में ही लगभग सभी सीमाओं से आना जाना बंद कर दिया था। विदेशी पर्यटकों के आनेजाने पर प्रतिबंध लगा दिया गया और अपने स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को कोरोना के लक्षणों के साथ किसी के भी पाए जाने पर उसे क्वारंटाइन करने के काम पर लगा दिया था।

 

Related posts

बेटी बचाव बेटी पढ़ाओ के नारे में कितनी सच्चाई, गोरखपुर में जनवरी 2021 से लेकर अब तक 257 बेटियां गायब

Rani Naqvi

वूमन पॉवर: देश के 4 बड़े हाईकोर्ट की कमान अब महिलाओं के हाथ

shipra saxena

हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद की पुण्यतिथि आज, जानें उनके जीवन से जुड़े रोचक तथ्य

Neetu Rajbhar