January 18, 2022 12:13 pm
featured हेल्थ

डेल्टा वैरियंट से क्यों खतरनाक है कोरोना का नया वैरियंट B.1.1.529, 30 से अधिक बार रूप बदलने में सक्षम

corona third wave डेल्टा वैरियंट से क्यों खतरनाक है कोरोना का नया वैरियंट B.1.1.529, 30 से अधिक बार रूप बदलने में सक्षम

कोरोना वायरस के नए वैरिएंट से एक बार फिर पूरी दुनिया चिंता में आ गई है। जब कई देशों में कोविड के मामले अब कम होने शुरू हो गए थे, तब फिर एक नए वैरिएंट ने हर किसी को डरा दिया है। ये नया वैरिएंट साउथ अफ्रीका में पाया गया है। कहा जा रहा है कि ये काफी तेजी से फैलता है और इसका म्यूटेशन 30 से अधिक बार हो चुका है. इस वैरिएंट को B.1.1.529 नाम दिया गया है।

इस वैरिएंट को लेकर पूरी दुनिया सतर्क है। भारत सरकार ने भी सभी राज्यों को मुस्तैद रहने के लिए कहा है। गुरुवार को स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोविड के नए वैरिएंट से प्रभावित मुल्कों से आ रहे लोगों की स्क्रीनिंग के निर्देश जारी किए। भारत आने वाले सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की कोरोना जांच कराई जाएगी। हाल ही में वीजा पाबंदी में ढील और इंटरनैशल ट्रैवल में छूट दी गई थी, ऐसे में इसको लेकर खास सतर्कता बरती जा रही है। रैपिड टेस्टिंग पर भी पूरा जोर दिया जा रहा है।

कितना खतरनाक है ये वैरिएंट
लगातार म्यूटेट हो रहे इस वैरिएंट ने WHO के साथ वैज्ञानिकों की भी टेंशन बढ़ा दी है। 30 से अधिक बार म्यूटेशन यानी रूप बदलना सबसे खतरे की बात है। दूसरी लहर में डेल्टा और डेल्टा प्लस वैरिएंट इसी तरह म्यूटेट होकर जानलेवा साबित हुआ था। सबसे चिंता की बात यह है कि मौजूदा वैक्सीन इस वैरिएंट के खिलाफ कारगर है या नहीं, इसकी स्टडी की जा रही है। इसमें वक्त लग सकता है। ऐसे में यह आशंका जताई जा रही है कि तब तक यह वैरिएंट कहर ना बरपाना शुरू कर दे।

B.1.1.1.529 वेरिएंट के अब तक कितने मामले मिले
कोविड के B.1.1.1.529 वेरिएंट ने सबसे ज्यादा खलबली दक्षिण अफ्रीका में मचाई है। रिपोर्ट के मुताबिक यहां इससे जुड़े 100 से अधिक मामलों की पुष्टि हुई है। इसके अलावा नए वैरिएंट के बोत्सवाना में 3 और हांगकांग में 1 मामला सामने आया है।
दक्षिण अफ्रीका की स्वास्थ्य एजेंसी ‘द नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर कम्युनिकेबल डिजीज’ (NICD) के मुताबिक यह वेरिएंट ज्यादा संक्रामक हो सकता है। इसलिए सरकार ने सरकारी और निजी प्रयोगशालाओं को तत्काल जीनोम सिक्वेंसिंग करने की सलाह दी है। ताकि यह पता चल सके कि यह वैरिएंट कितना संक्रामक, कितना खतरनाक और दुष्प्रभावी है।

क्या है केंद्र सरकार की तैयारी?
बताया गया है कि जो भी लोग इन देशों से भारत आएंगे, उन्हें एक सख्त स्क्रीनिंग से गुजरना पड़ेगा। ये सब इसलिए होगा क्योंकि अफ्रीका के उन देशों को ‘एट रिस्क’ वाली कैटेगरी में रखे जाने की तैयारी है। सरकार की इस पूरी सतर्कता के पीछे वजह भी वाजिब। दूसरी लहर में कोरोना वायरस ने भारत में जमकर कहर मचाया था और कोरोना डेल्टा वैरिएंट को इसका सबसे बड़ा जिम्मेदार माना गया। यूरोप और बाकी देशों में कहर बरपा रहे डेल्टा वैरिएंट के डर से कई भारतीय अपने मुल्क लौट आए थे। एयरपोर्ट पर कहीं ना कहीं टेस्टिंग में चूक हुई थी और फिर धीरे-धीरे इस वैरिएंट ने गदर काटा था। ऐसे में इस बार केंद्र सरकार विशेष सतर्कता बरत रही है।

WHO ने बुलाई बड़ी बैठक
इस बीच WHO की Technical Advisory Group ने अहम बैठक बुलाई है। उस बैठक में इस नए वैरिएंट को लेकर मंथन होने वाला है। WHO का कहना है कि इस वैरिएंट पर अभी और रिसर्च करने की जरूरत है। सबसे जरूरी है कि हम अधिक से अधिक लोगों को कोरोना वैक्सीन लगवाएं, ताकि इससे मुकाबला किया जा सके।
इसके अलावा ये भी बताया गया है कि कोरोना के इस वैरिएंट को भी एक ग्रीक नाम दिया जाएगा। जैसे डेल्टा, एल्फा नाम रखे गए हैं, साउथ अफ्रीका वैरिएंट को भी एक नाम दिया जाएगा। वैज्ञानिकों का कहना है कि इस वैरिएंट में मल्टी म्यूटेशंस की ताकत है, इसलिए यह चिंता की बात है। अब इसकी भी जांच हो रही है कि कोविड वैक्सीन इस वैरिएंट के खिलाफ कितना कारगर है।

यह है चिंता की सबसे बड़ी बात
वैसे इस नए वैरिएंट को लेकर ज्यादा चिंता इसलिए भी है क्योंकि अभी तक ये नहीं पता है कि ये कितनी तेजी से फैल सकता है, जो जानकारी सामने आई है वो सिर्फ इस वैरिएंट के म्यूटेशन को लेकर है। KRISP की डायरेक्टर De Oliveira बताती हैं कि इस नए वैरिएंट के कई असाधारण म्यूटेशन देखने को मिले हैंष उनके मुताबिक अब तक 30 से ज्यादा म्यूटेशन दिख चुके हैं। दूसरे वैरिएंट की तुलना मे ये ज्यादा चिंता बढ़ाने वाला दिख रहा है।

नए वेरिएंट से ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत
उधर, लंदन स्थित यूसीएल जेनेटिक्स इंस्टीट्यूट के निदेशक फ्रेंकोइस बॉलौक्स ने अपने एक बयान में कहा, ‘नए वेरिएंट के पुराने संक्रमण से ही विकसित होने की आशंका है। हो सकता है कि यह कोविड के क्रोनिक इन्फेक्शन वाले किसी एचआईवी मरीज में बना हो।’
कुछ रिपोर्ट्स में यह दावा किया गया है कि कोविड का नया वेरिएंट, इसके डेल्टा वेरिएंट से भी बुरा साबित हो सकता है, डेल्टा वेरिएंट को भारत में दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार बताया गया था। हजारों लोगों ने अपनी जान गवाई थी। ऐसे में डेल्टा से भी ज्यादा खतरनाक माने जा रहे B.1.1.1.529 वेरिएंट से भारत को और ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है।

Related posts

किशोर उपाध्याय ने आंदोलनकारियों को श्रद्धांजलि देते हुए, आंदोलन की दी चेतावनी

Samar Khan

राहुल ने केंद्र सरकार पर फिर साधा निशाना , बोले ना जवान ना किसान मोदी सरकार के लिए 3-4 उद्योगपति मित्र ही भगवान

Aman Sharma

अजीब फरमान: किम जोंग उन के बारे में अब 90 मिनट तक पढ़ना होगा अनिवार्य

Trinath Mishra