January 28, 2022 5:51 pm
featured देश

कम हुए कोरोना के केस, लेकिन मौत के आंकड़ों ने बढ़ाई चिंता…

कोरोना

भारत अब धीरे धीरे कोरोना की दूसरी लहर से निकल रहा है। तीसरे दिन भी देश में 3 लाख से कम मामले सामने आए। लेकिन विभाग की चिंता अभी भी बढ़ी हुई है। कोरोना केस कम होने के बावजूद भी मौतों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। जो काफी हैरान करने वाला है। ऐसा माना जा रहा है कि जब कोरोना पीक पर था तब भी इतनी मौतें नहीं हो रही थी। पिछले 24 घंटों में देश में कोरोना से 4525 लोगों की मौतें हो गई हैं। आपको बता दें कि जब एक ही दिन में कोरोना के सबसे ज्यादा 4.14 लाख मामले सामने आए थे तब भी 3920 लोगों की जान गई थी। इसलिए मौतों के लगातार बढ़ते आंकड़ों को देख चिंताएं बढ़ने लगी है।

बीते 24 घंटों में आए 3 लाख से कम केस

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, भारत में बीते 24 घंटे में कोरोना वायरस के 267174 नए केस आए हैं। हालांकि बीते कल केस ज्यादा थे। आंकड़ों की मानें तो देश में कोरोना के कुल मामलों की संख्या 25495144 पहुंच गई है। इनमें से एक्टिव केसों की संख्या 21979703 है।

अब तक हुईं सबसे अधिक मौतें

देश में कोरोना वायरस के केस कम तो हो रहें हैं लेकिन मंगलवार को अब तक सबसे अधिक 4525 मौतें हुई। कोरोना की किसी भी लहर में होने वाली एक दिन में मौतों का यह सबसे ज्यादा आंकड़ा है। हालांकि बुधवार को यह आंकड़ा 2.67 लाख तक नीचे आ गया, लेकिन इस बीच मौतें बढ़ गईं।

कोरोना के नए मामले हुए कम

जैसे – जैसे कोरोना का पीक कम हो रहा है । वैसे वैसे नए मामले आने भी कम हो गए है। जंहा पहले मरीजों की संख्या 4.50 लाख के उपर तक आती थी अब उसमें एक दिन में सक्रिय मामले में 1,63,232 की रिकॉर्ड कमी आई है। यानी नए संक्रमण कम होने के साथ सक्रिय मामले भी तेजी से घट रहे हैं।

10 राज्यों में हुई सबसे ज्यादा मौतें

स्वास्थ्य मंत्रालय की माने तों पिछले चैबीस घंटों में 10 ऐसे राज्य हैं जहां सबसे ज्यादा मौतें हुई हैं। जिसमें महाराष्ट्र में 1200, कर्नाटक में 476, दिल्ली में 340, तमिलनाडु में 335, आंध्र प्रदेश में 271, उत्तराखंड में 223, पंजाब में 191, राजस्थान में 157, छत्तीसगढ़ में 149 और पश्चिम बंगाल में 147 मौतें हुई हैं। जो कि चिंता का विषय है।

30 मई तक बढ़ सकता है मौतों का आंकड़ा !

भारत में कोरोना पूरे पीक पर आ चुका था। जिसके चलते लगातार नए केस बढ़ रहे थे । ऐसे में अब विशेषज्ञों की माने तों उनका कहना है कि पीक की वजह से मौतों का आंकड़ा बढ़ सकता है। क्योंकि अगर कोई व्यक्ति संक्रमित होता है तो उसे ठीक होने में कम से कम 15 दिन लगते हैं। उसके बाद या तो वह स्वस्थ हो जाता है या फिर उसकी मौत हो सकती है। इसलिए मौतों का आंकड़ा भी 15 दिन के बाद घटना शुरू होगा।

Related posts

अहम मामलों की सुनवाई के सीधा प्रसारण पर केंद्र को नोटिस

Rani Naqvi

मोदी कैबिनेट में अजय मिश्र टेनी, संसद रत्‍न अवार्डी का जानिए सियासी सफर

Shailendra Singh

जम्मू: इंटरनेशनल बॉर्डर पर फिर दिखा ड्रोन, फायरिंग के बाद हुआ गायब

pratiyush chaubey