ठंड उत्तर भारत के अधिकतर हिस्सों में शीतलहर का प्रकोप, जाने कहां-कहां बढ़ेगा ठंड का स्तर

नई दिल्ली।  उत्तर भारत के अधिकतर हिस्सों में शीतलहर का प्रकोप जारी है। साथ ही, कश्मीर घाटी, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में ताजा हिमपात हुआ। दिल्ली में आज सुबह यानी मंगलवार को भी बारिश हुई और दिल्ली का न्यूनतम पापमान 12 डिग्री सेल्यिस दर्ज किया गया। मौसम विज्ञानियों ने कहा कि दिल्ली में दिन में आकाश में बादल छाए रहने से न्यूनतम तापमान में थोड़ी वृद्धि हुई। उन्होंने कहा कि हालांकि अगले दो-तीन दिन पश्चिमी विक्षोभ के चलते बारिश के कारण तापमान में कमी आने की संभावना है। दिल्ली में सोमवार की शाम और मंगलवार की सुबह हल्की बारिश हुई और अगले 24 घंटे में और बारिश हो सकती है।

स्काईमेट के मुताबिक, अगले 24 घंटों के दौरान पश्चिमी हिमालयी भागों में भारी बारिश और हिमपात की उम्मीद है। इसी समय पंजाब और हरियाणा में भी गरज के साथ वर्षा शुरू होने की संभावना है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश, दिल्ली और उत्तरी राजस्थान में छिटपुट जगहों पर बारिश की संभावना है। इन क्षेत्रों में ओलावृष्टि की गतिविधियां भी हो सकती हैं। तटीय आंध्र प्रदेश और उत्तरी तमिलनाडु में हल्की से मध्यम बारिश और गरज के साथ बारिश जारी रहने की संभावना है। उत्तर पूर्वी भारत और तेलंगाना के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश होने के आसार हैं। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने कहा कि दिल्ली में अधिकतम तापमान 19.1 डिग्री सेल्सियस रहा जो साल की इस अवधि का सामान्य तापमान है। वहीं, शहर का न्यूनतम तापमान 9.9 डिग्री सेल्सियस रहा जो सामान्य से तीन डिग्री अधिक है। इसने कहा कि उत्तर भारत में सात से नौ जनवरी के बीच बारिश होने की संभावना है जिससे दिल्ली में तापमान में गिरावट आएगी।

कश्मीर में श्रीनगर और अन्य हिस्सों में 2020 का पहला हिमपात हुआ। वहीं, ताजा बारिश की वजह से समूची घाटी में रात के तापमान में सुधार हुआ। मौसम विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि श्रीनगर शहर सहित समूचे कश्मीर में सुबह से ही हल्की से मध्यम बारिश होती रही। भारतीय हवाईअड्डा प्राधिकरण के एक अधिकारी ने कहा कि हालांकि श्रीनगर से जाने वाली और श्रीनगर आने वाली उड़ानें निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार जारी हैं। श्रीनगर में बीती रात तापमान शून्य से 0.8 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। अधिकारियों ने बताया कि सोमवार को बारिश की वजह से भूस्खलन के कारण जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर 600 से अधिक वाहन फंस गए।

Rani Naqvi
Rani Naqvi is a Journalist and Working with www.bharatkhabar.com, She is dedicated to Digital Media and working for real journalism.

    कासिम सुलेमानी की जनाज़े की नमाज़ पढ़ाते वक्त फूट-फूट कर रोए अयातुल्ला अली खामनेई, लाखों की संख्या में पहुंचे लोग

    Previous article

    जेएनयू की हिंसा के विरोध में मुंबई के गेटवे ऑफ इंडिया पर प्रदर्शन में दिखे कश्मीर के पोस्टर

    Next article

    You may also like

    Comments

    Comments are closed.

    More in featured