3095d416 3ee3 4bc0 bf52 4382c9bec67c CBI टीम ने किया बच्चों के यौन शोषण मामले में बड़ा खुलासा, सिंचाई विभाग में तैनात जूनियर इंजीनियर को किया गिरफ्तार
प्रतीकात्मक चित्र

लखनऊ। देश में महिलाओं और बच्चों के साथ यौन शोषण के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं। आए दिन कहीं न कहीं से मानवता को नष्ट कर देने वाले मामले सामने आते रहते हैं। ऐसे ही एक मामले का आज सीबीआई ने खुलासा किया है। सीबीआई की टीम सितंबर से बच्चों के यौन शोषण के विदेशी लिंक को ट्रेस कर रही थी। जिसके चलते सीबीआई ने सितंबर में ही बच्चों के यौन शोषण और वीडियो से जुड़ी नीरज यादव की पहली गिरफ्तारी अनपरा से की थी। जिसके बाद सीबीआई ने मंगलवार को चित्रकूट से सिंचाई विभाग में तैनात जूनियर इंजीनियर रामभवन को गिरफ्तार किया।

आरोपी के पास से हुआ ये सामान बरामद-

बता दें कि सीबीआई की टीम सितंबर से बच्चों के यौन शोषण के विदेशी लिंक को ट्रेस कर रही थी। जिसके सीबीआई टीम ने नीरज यादव और रामभवन गिरफ्तार कर लिया। दोनों आरोपियों के पास से कई आपत्तिजनक वीडियो बरामद किए गए हैं।  पकड़े गए नीरज यादव के पास से आपत्तिजनक वीडियो और विदेशी लिंक के सुबूत बरामद हुए थे। इसी सिलसिले में सीबीआई ने मंगलवार को चित्रकूट से सिंचाई विभाग में तैनात जूनियर इंजीनियर रामभवन को गिरफ्तार किया। गिरफ्तार राम भवन भी इसी सिंडिकेट का हिस्सा है। खबर के मुताबिक, नीरज यादव और राम भवन डार्क नेट के जरिये ही बच्चों के यौन शोषण के वीडियो भेज रहे थे। सीबीआई ने मंगलवार को चित्रकूट से जूनियर इंजीनियर रामभवन को गिरफ्तार किया था। सीबीआई ने छापेमारी के दौरान 8 लाख रुपये नगद, अनेक सेक्स करने वाले खिलौने, लैपटॉप और यौन शोषण से संबंधित आपत्तिजनक सामग्री बरामद किये थे। आरोप है कि इन खिलौनों का प्रयोग आरोपी 5 साल से 16 साल तक के बच्चों को लुभाने के लिए किया करता था।

इंटरनेट पर वीडियो प्रसारित करने के लिए करते थे डार्क बेव का प्रयोग-

सीबीआई प्रवक्ता आरके गौड़ के मुताबिक, आरोपी के खिलाफ चित्रकूट समेत बांदा और आसपास के जिलों में बच्चों के यौन शोषण का आरोप था। उन्होंने बताया कि आरोपी के साथ कुछ और लोग भी शामिल थे। यह लोग बच्चों के साथ यौन शोषण करने के बाद उनकी वीडियो और अन्य तस्वीरें उतार कर बेचने का काम भी करते थे। यह भी आरोप है कि बाल यौन शोषण सामग्री वाली तस्वीरों और वीडियो को आरोपी द्वारा इंटरनेट की सुविधा का उपयोग कर प्रकाशित और प्रसारित भी किया जाता था। इसके लिए यह लोग डार्क वेब का उपयोग किया करते थे।

Trinath Mishra
Trinath Mishra is Sub-Editor of www.bharatkhabar.com and have working experience of more than 5 Years in Media. He is a Journalist that covers National news stories and big events also.

हाईकोर्ट ने सुनाया अहम फैसला, कहा- पत्नी बेईमान या फिर व्यभिचारी है या नहीं, DNA सबसे वैध तरीका

Previous article

पुतिन ने किया संविधान में दूसरा सबसे बड़ा बदलाव, राष्ट्रपति पद से हटने के बाद भी नहीं होगा कोई मुकदमा

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.