मिशन हस्तिनापुर पर ASI की टीम, जल्द ही उठेगा रहस्य से पर्दा

मेरठ: महाभारत काल का इतिहास भारतीय संस्कृति और सभ्यता से जुड़ा हुआ है। इससे जुड़े तथ्यों को जानने के लिए लगातार कई प्रयोग किए जाते रहे हैं। अब भारतीय पुरातत्व विभाग(ASI) की टीम भी मिशन हस्तिनापुर पर निकल चुकी है। इस पूरे कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य महाभारत काल से जुड़े हुए सभी अवशेषों को बाहर निकालना है।

पांडव टीले की खोज में ASI

महाभारत काल से जुड़े पांडव टीले की पड़ताल करने के लिए पूरी टीम लगातार कैंप लगाकर जमीन पर जुटी हुई है। इससे जुड़े अधिकारियों का कहना है कि जल्द ही हस्तिनापुर के सभी रहस्यों से पर्दा उठ जाएगा। एक बार सभी अवशेष मिलने के बाद जहां पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा और विकास कार्य भी होंगे। पूरी टीम का मुख्य उद्देश्य अभी यहीं है कि जमीन में सदियों पुराने अवशेषों को बाहर निकालना है। पहले भी टीले से अवशेष निकलते रहे हैं, ऐसे में इस बार फिर से मिशन मोड पर काम किया जा रहा है।

यूपी के अन्य जिलों में भी हो रहा काम

इतिहास से जुड़ी कहानी और उसके अवशेष तलाशने के लिए एएसआई की टीम लगातार जुटी हुई है। हस्तिनापुर के अतिरिक्त उत्तर प्रदेश के अन्य 16 जिलों में पुरातत्विक पड़ताल की जा रही है। इनमें कुल 42 ऐसी साइट हैं, जहां ASI की टीम लगी हुई है।

फिर लखनऊ पहुंचेगा पुलिस अभ्यर्थियों का जमावड़ा, जानें किस दिन होगा प्रदर्शन

Previous article

आषाढ़ महीने की सप्तमी पर करें सूर्य देवता की पूजा, नहीं लगेंगी बीमारियां, दुश्मनों पर मिलेगी जीत

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured