January 27, 2022 11:37 am
featured देश यूपी

दिल्ली बॉर्डर पर किसान आंदोलन के 9 महीने पूरे, जाने अब तक क्या-क्या हुआ

9eb04037301440be9598bacde698f328 342 660 दिल्ली बॉर्डर पर किसान आंदोलन के 9 महीने पूरे, जाने अब तक क्या-क्या हुआ

तीन कृषि कानूनों को रद्द करवाने और एमएसपी को लेकर नया कानून बनवाने की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे किसानों को राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर बैठे हुए आज 9 महीने पूरे हो गए हैं। किसानों ने सरकार के खिलाफ धिक्कार यात्रा निकाली। पिछले 9 महीने से किसान सड़क मोर्चे पर डटे हुए हैं और सरकार से जल्द मांगे मनवाने के लिए आंदोलन को तेज करने की बात कह रहे हैं। आज टिकरी बॉर्डर पर भारी संख्या में किसान पहुंचे। इतना ही नहीं आंदोलन स्थल पर पहुंचे किसानों का हौसला बढ़ाने के लिए हिंदू और सिख धर्म के प्रचारक भी पहुंचे।

download 10 दिल्ली बॉर्डर पर किसान आंदोलन के 9 महीने पूरे, जाने अब तक क्या-क्या हुआ

उन्होंने किसानों से सीधा संवाद किया और उनका मनोबल बढ़ाने की कोशिश की। आर्य समाज से जुड़े स्वामी आर्यवेश और धर्म के प्रचारक सरबजीत सिंह टिकरी बॉर्डर पहुंचे। किसान नेताओं का कहना है कि आंदोलन जब तक जारी रहेगा जब तक कि केंद्र सरकार तीन कृषि कानूनों को रद्द नहीं कर देती और एमएसपी को लेकर गारंटी नहीं दे देते। नेताओं ने बताया कि सिंघु बॉर्डर पर दो दिवसीय राष्ट्रीय किसान अधिवेशन बुलाया गया है। जहां देशभर के किसान नेता मिलकर आंदोलन को तेज करने के लिए अपने विचार रखेंगे और जो फैसले सिंघु बॉर्डर पर लिए जाएंगे वे ज्यों के त्यों टिकरी बॉर्डर पर भी लागू होंगे।

भारतीय किसान यूनियन राज्यपाल के महासचिव परगट सिंह का कहना है कि वे बीजेपी का खुलकर विरोध करेंगे और आने वाले विधानसभा चुनाव में देश के 5 राज्यों में जाकर बीजेपी को हराने का काम करेंगे। जिस तरीके से किसानों ने मिशन बंगाल को सफल बनाया उसी तरह अब किसान मिशन यूपी भी शुरू करने जा रहे हैं और जल्द ही यूपी में रैली का आयोजन भी किया गया है। यह रैली आने वाले वक्त में यूपी की राजनीति की दिशा निर्धारित करेगी।

24 08 2021 kisanprotest 21956207 122828205 दिल्ली बॉर्डर पर किसान आंदोलन के 9 महीने पूरे, जाने अब तक क्या-क्या हुआ

इतना ही नहीं किसान नेताओं का कहना है कि वह बीजेपी का तो विरोध करेंगे। लेकिन साथ ही अन्य पार्टी के राजनेताओं से सवाल भी करेंगे। क्योंकि जब टीम के कानून लागू हुए तो अन्य पार्टियां भी इसे लागू करवाने में शामिल थी। जब आंदोलन चल रहा है तो अलग-अलग पार्टियों की किसानों के समर्थन में क्या भूमिका रही है। इस बारे में राजनेताओं से सवाल ही जाएंगे हम आपको बता दें कि 11 दौर की बातचीत के बाद अब 7 महीने से सरकार और किसानों के बीच बातचीत बंद है। लेकिन सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी के बाद अब एक बार फिर से किसानों और सरकार के बीच बातचीत शुरू होने की उम्मीद बनी है।

यह आंदोलन कब तक चलेगा और आगे चलकर क्या रुख लेगा यह तो आने वाला समय ही बताएगा। लेकिन किसानों के हौसले बुलंद है। किसान हर हालत में जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं हो जाती तब तक दिल्ली सीमाओं पर ही आंदोलन करने की बात कह रहे हैं।

Related posts

दिल्ली-एनसीआर और हरियाणा के लिए एक ही पास बनवाए सरकार: सुप्रीम कोर्ट

Rani Naqvi

विचलित कर देगी ये खबर, अगर आपके पास भी है कार तो रहें सावधान

Shailendra Singh

बिहार में छठ पूजा करने जा रही 6 महिलाओं की ट्रेन से कटकर मौत

shipra saxena