November 30, 2022 10:14 pm
featured देश

अमेरिका में कोरोना वायरस के चलते हुई 1 लाख मौतें, भारतीय मौतों का आंकड़ा क्यों छिपा रहा अमेरिका?

death 1 1 अमेरिका में कोरोना वायरस के चलते हुई 1 लाख मौतें, भारतीय मौतों का आंकड़ा क्यों छिपा रहा अमेरिका?

चीने के वुहान शहर सेनिकले कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को तहस नहस कर दिया है। इस बीच कोरोना ने सबसे ज्यादा तबाही दुनिया के सबसे ताकतवर देश अमेरिका में मचाई है।

trump अमेरिका में कोरोना वायरस के चलते हुई 1 लाख मौतें, भारतीय मौतों का आंकड़ा क्यों छिपा रहा अमेरिका?
अमेरिका में कोरोना ने ऐसा मौत का तांडव काटा जिसके चलते 1 लाख से ज्यादा लोगों की अमेरिका में मौत हो चुकी है।

यह डरा देने वाला आंकड़ा किसी भई देश के मुकाबले सबसे ज्यादा है। लेकिन इस बीच सबसे चौंकाने वाली बात ये ही की अमेरिका ने कोरोना से मरने वाले भारतीयों का कोई भी डाटा नहीं बनाया है। जो कि अपने आप में बेहद चौंकाने वाला है।

सदन में बहुमत के नेता स्टेनी होयर ने कहा, ‘‘कोविड-19 के कारण 1,00,000 वें अमेरिकी व्यक्ति की मौत हो गई। ऐसे में हमारा देश एक दुखद मुकाम पर है।

पूरे देश में, इतने परिवार इस बीमारी के कारण अपने प्रियजनों को खोने के दुख में डूबे हैं।’’ जॉन हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के मुताबिक बुधवार को अमेरिका में मृतकों की संख्या एक लाख को पार कर गई है।

होयर ने कहा, ‘‘इस त्रासदी का असर कितना होगा यह अंदाजा भी नहीं लगाया जा सकता क्योंकि जान गंवाने वाले इन एक लाख लोगों में कोई माता-पिता होगा, कोई दादा-दादी या नाना-नानी, भाई या बहन, बच्चा और हमारे मूल्यवान समुदाय का सदस्य होगा।’

अब तक 17 लाख अमेरिकी कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। रोग नियंत्रण एवं रोकथाम संबंधी अमेरिकी केंद्र सीडीसी के मुताबिक देश में इस संक्रमण ने हर आयुवर्ग और हर समुदाय को अपनी चपेट में लिया है।

संक्रमण के कुल मामलों में से 4.7 एशियाई अमेरिकियों के और 26.3 फीसदी अश्वेत अमेरिकियों के हैं।

संक्रमण के कारण यहां कितने भारतीय-अमेरिकी लोगों की मौत हुई इसका कोई आंकड़ा उपलब्ध नहीं है।

लेकिन कुछ अनाधिकारिक अनुमानों की मानें तो न्यूयॉर्क और न्यूजर्सी में ऐसे 500 से अधिक लोगों की मौत हुई तथा इस समुदाय के संक्रमित लोगों की संख्या हजारों में है।

बीते दो महीनों में कई जाने माने भारतीय-अमेरिकी चिकित्सक एवं प्रभावशाली सामुदायिक नेताओं की संक्रमण के कारण मौत हुई।

सीडीसी ने कहा कि अब तक अमेरिका में 1.57 करोड़ लोगों की जांच की गई है जिनमें से 18 लाख संक्रमित पाए गए हैं।

संक्रमण के सर्वाधिक 5,00,000 से अधिक मामले 18-44 आयु वर्ग में है जिसके बाद 4,50,000 से अधिक मामले 45-64 आयु वर्ग में हैं।

इस तरह ये आंकड़ा लगातार बढ़ता ही जा रहा है। और कितने पर आकर रूकेगा किसी को नहीं पता। ऐसे में जो भारतीय अमेरिका में फेस गये हैं।

https://www.bharatkhabar.com/bravery-of-security-forces-in-pulwama-jammu-and-kashmir/

वो जिंदा या नहीं किस हालत में हैं किसी को नहीं पता । जो कि बेहद दुखद के साथ चौंकाने वाली बात है।

Related posts

करनाल: तीसरे दिन भी डटे रहे किसान, नहीं बनी प्रशासन से सहमति, अनिल विज बोले- बिना जांच के किसी को सूली पर नहीं लटका सकते

Saurabh

कोरोना के डर से रिश्‍तेदारों ने फेरा मुंह, मुस्लिम समाज के लोगों ने दिया अर्थी को कंधा

Shailendra Singh

जेएनयू देशद्रोह मामले में 30 छात्रों से होगी पूछताछ, बनाई गई लिस्ट

shipra saxena