यूपी बजट 2021-22 की शुरुआत निर्मला सीतारमण की तरह इस शायरी से हुई, क्या है खास

लखनऊ। योगी सरकार अपने इस बजट में कन्याओं और महिलाओं के लए दो नई योजनाएं शुरू करने जा रही है। कन्या सुपोषण योजना के लिए 100 करोड़ और महिला साम्यर्थ योजना के लिए 200 करोड़ का बजट आवंटित किया गया है।

रामनगरी अयोध्या के विकास के लिए सरकार ने 140 करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया है। लखनऊ में राष्ट्रीय प्रेरणा स्थल बनाने के लिए 50 करोड़ का प्रावधान किया गया है।

घर-घर पानी पहुंचाने में खर्च होंगे 15 हजार करोड़

वित्तमंत्री ने कहा- उत्तर प्रदेश में स्वच्छ पेयजल की व्यवस्था की जा रही है। पेयजल योजना के लिए 15000 करोड रुपए के बजट का इंतजाम किया गया है। 2022 तक शहर और गांवों के घर-घर तक नल से पानी पहुंचाया जाएगा।

कोरोना वैक्सीन के लिए 50 करोड़

सरकार ने इस बजट में कोरोना वैक्सीनेशन के लिए 50 करोड़ रुपये रखे हैं। वित्तमंत्री ने कहा कि प्रदेश में पीपीपी मॉडल पर मेडिकल कॉलेज बनाए जा रहे हैं। इससे लोगों को बेहतर इलाज मिल सकेगा।

युवाओं का जीवन बदलेगी अभ्युदय योजना

वित्तमंत्री ने अभ्युदय योजना का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे युवाओं को मुफ्त कोचिंग दी जा रही है। छात्र-छात्राओं को मुफ्त में लैपटॉप और टेबलेट भी दिए जा रहे हैं। अब तक प्रदेश के 52 हजार युवाओं ने इसका लाभ लिया है।

किसानों पर फोकस रहा सरकार का बजट

सुरेश खन्ना ने कहा कि प्रदेश में अधिक उत्पादक वाली फसलों को चिन्हित किया जाएगा। ब्लॉक स्तर पर कृषक उत्पादन संगठनों की स्थापना की जाएगी, इसके लिए 100 करोड़ रुपये दिए जाएंगे. किसानों को मुफ्त पानी की सुविधा के लिए 700 करोड़ रुपये दिया जाएगा. किसानों को रियायती दाम पर लोन देने का ऐलान किया गया है।

कोरोना में घर लौटे 20 लाख मजदूरों की मदद की सरकार ने

सुरेश खन्ना ने कहा- 20 लाख मजदूरों को 1-1 लाख की मदद की गई। यूपी में कानून व्यवस्था में सुधार हुआ। प्रदेश में व्यापार आसान होगा। 2021-2022 का बजट प्रदेश के सम्रग विकास को समपर्ति होगा।

कोरोना संकट: 24 घंटे में सामने आए 14199 मामले, महाराष्ट्र में फिर लग सकता है लॉकडाउन

Previous article

वित्त मंत्री सुरेश खन्ना पेश कर रहे बजट, ये रही ख़ास बातें

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.