featured उत्तराखंड

Uttarakhand: बुद्ध पूर्णिमा पर हरिद्वार में उमड़ा आस्था का सैलाब, अब तक 4 लाख श्रद्धालुओं ने लगाई डुबकी

13 18 569235380h Uttarakhand: बुद्ध पूर्णिमा पर हरिद्वार में उमड़ा आस्था का सैलाब, अब तक 4 लाख श्रद्धालुओं ने लगाई डुबकी

Uttarakhand: आज बुद्ध पूर्णिमा का पर्व है। इस मौके पर गंगा स्नान करने के लिए हरिद्वार में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ रही है। सुबह तड़के से ही हर की पैड़ी समेत हरिद्वार के तमाम घाटों पर श्रद्धालुओं की भीड़ स्नान के लिए जुटनी शुरू हो गई थी।

ये भी पढ़ें :-

नारद जयंती कार्यक्रम पर पत्रकार सम्मानित, लोकेश टंडन बोले- यह सम्मान मेरे जीवन में अति महत्वपूर्ण

डुबकी लगाकर पुण्य की कामना कर रहे श्रद्धालु
देश भर से आये लाखों श्रद्धालु हर की पैड़ी पर गंगा में आस्था की डुबकी लगाकर पुण्य की कामना कर रहे हैं। माना जाता है कि बुद्ध पूर्णिमा के दिन गंगा में स्नान करने से हजारों गुना अधिक पुण्य फल मिलता है। अब तक हरिद्वार में चार लाख श्रद्धालु स्नान कर चुके हैं।

हरिद्वार में प्रतिदिन गंगा स्नान का अपना महत्व
यूं तो हरिद्वार में प्रतिदिन गंगा स्नान का अपना महत्व है, लेकिन बुद्ध पूर्णिमा पर गंगा स्नान करने से माना जाता है कि विशेष पुण्य फल मिलता है। बुद्ध पूर्णिमा के मौके पर गंगा स्नान करने के लिए हरिद्वार में श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ रहा है।

श्रद्धालुओं की बड़ी भीड़ को देखते हुए पुलिस द्वारा सुरक्षा के भी पुख्ता इन्तजाम किए गए हैं। तन को झुलसा देेने वाली भीषण गर्मी में आस्था की डुबकी लगाकर श्रद्धालु पुण्य अर्जित कर रहे हैं।

प्रशासन ने सुरक्षा के किए व्यापक प्रबंध
स्नान के साथ ही दान पुण्य भी किया जा रहा है। वहीं श्रद्धालुओं की बड़ी भीड़ को देखते हुए प्रशासन ने सुरक्षा के व्यापक प्रबंध किए हैं। बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया है। पूरे मेला क्षेत्र को 6 जोन 18 सेक्टरों में बांटा है। साथ ही साथ जाम की स्थिति शहर में ना बने इसके लिए हरिद्वार में भारी वाहनों का प्रवेश वर्जित किया गया है। इसी के साथ ही ट्रैफिक व्यवस्था का अलग से प्लान बनाकर लागू किया गया है।

Related posts

एलियन्स का पता लगाने वाली अमेरिकी टीम अचानक कहां हो गई गायब ?, 8 साल बाद हुआ खुलासा..

Rozy Ali

Manipur Violence: बिष्णुपुर जिले में हुई फायरिंग, तीन मैतेइ वॉलंटियर की मौत

Rahul

मेरठ में टूटा कोरोना का कहर ली मासूम की जान..

Mamta Gautam