featured देश बिज़नेस यूपी राज्य

प्लास्टिक प्रोसेसिंग पार्क से उत्तर प्रदेश की बदलेगी सूरत, हजारों लोगों को मिलेगा स्थाई रोजगार

प्लास्टिक प्रोसेसिंग पार्क 1 प्लास्टिक प्रोसेसिंग पार्क से उत्तर प्रदेश की बदलेगी सूरत, हजारों लोगों को मिलेगा स्थाई रोजगार

यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण मेडिकल डिवाइस पार्क, टॉय पार्क, टेक्सटाइल पार्क और लेदर पार्क के साथ ही अब प्लास्टिक प्रोसेसिंग पार्क भी विकसित करने जा रहा है। प्लास्टिक प्रोसेसिंग पार्क सौ एकड़ जमीन में विकिसत किया जाएगा।

आपको बता दें कि ऐसा ही पार्क गोरखपुर में 52 एकड़ जमीन में स्थापित किए जाने की कार्यवाही की जा रही है। सूबों में स्थापित किए जाने वाले इस प्रकार के प्लास्टिक प्रोसेसिंग पार्क से हजारों की संख्या में लोगों को रोजगार मिलेगा।

आने वाले 10 सालों में प्रदेश में बढ़ने वाली कई गुना प्लास्टिक की मांग को ध्यान में रखते प्रदेश सरकार ने राज्य में प्लास्टिक प्रोसेसिंग पार्क की स्थापना को लेकर कार्यवाही शुरू कर दी। 

 ऑल इंडिया प्लास्टिक इंडस्ट्री एसोसिएशन लगातार प्लास्टिक की बढ़ती डिमांड को ध्यान में रखते हुए यीडा क्षेत्रों में प्लास्टिक उद्योगों के लिए योजना लाने का आग्रह कर रही है। एसोसिएशन के अधिकारियों का कहना है 2030 तक प्लास्टिक की डिमांड 5 से 6 गुना बढ़ जाएगी। ऐसे में भविष्य में प्लास्टिक की डिमांड को पूरा करने के लिए यीडा क्षेत्रों में नए उद्योग स्थापित हो रहे हैं। जिससे प्लास्टिक इंडस्ट्री के रूप में क्षेत्र की लोकप्रियता में भी इजाफा होगा और स्थानीय लोगों को रोजगार भी मिलेगा साथ ही नए उद्योगों की स्थापना से यमुना प्राधिकरण की अच्छी कमाई हो सकती है।

इसी कड़ी में 28 सितंबर को स्टेकहोलर के साथ एलडीए की बैठक होगी। जिसमें जमीन की तलाश व अन्य जरूरतें पूरा करने के लिए पॉलिसी को फाइनल किया जाएगा।

संभावना है कि उत्तर प्रदेश में आउटर रिंग रोड, आगरा एक्सप्रेसवे, लखनऊ-कानपुर एक्सप्रेस और कानपुर रोड पर प्लास्टिक प्रोसेसिंग पार्क बनाई जाएंगे।

प्रदेश में प्लास्टिक प्रोसेसिंग पार्क बनने से अन्य राज्य व दूसरे देशों से माला वालों की आवाजाही लॉजिस्टिक पार्क से राजधानी में अन्य राज्यों या दूसरे देशों से माल की आवक और यहां से इसे बाहर भेजे जाने को सुगम बनाया जा सकेगा।

Related posts

प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की क्रांति के मुख्य केंद्रों के बारे में जानें

mahesh yadav

यूएनजीए में भारत के प्रमुख मुद्दे- बहुपक्षीय संबंध, जलवायु, शांति, सुरक्षा

mahesh yadav

सांसद कर रहे थे निरीक्षण, समय पर डॉक्टर और दवा न मिलने से हुई युवती की मौत

rituraj