LDA की बैठक में फैसला, दीपावली पर होगा लखनऊ ग्रीन कॉरिडोर प्रोजेक्ट का शुभारंभ

लखनऊ: इस साल दीपावली के अवसर पर लखनऊ ग्रीन कॉरिडोर प्रोजेक्ट की शुरुआत होगी। मंगलवार को लखनऊ विकास प्राधिकरण (LDA) के उपाध्यक्ष अभिषेक प्रकाश की अध्यक्षता में हुई समीक्षा बैठक में इसका फैसला लिया गया। इसके तहत  आईआईएम रोड पर दाएं तटबंध पर प्रस्तावित 4-लेन सड़क और समतामूलक चौराहे पर फ्लाईओवर का काम शुरू किया जाएगा।

एलडीए उपाध्यक्ष अभिषेक प्रकाश ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि, परियोजना से संबंधित सभी कार्य का समयबद्ध क्रियान्वयन करें। इस बैठक में एलडीए सचिव पवन गंगवार, अपर सचिव ज्ञानेंद्र वर्मा, मुख्य अभियंता इंदु शेखर सिंह, अधीक्षण अभियंता अवधेश कुमार तिवारी और आर्किटेक्ट अनुपम मित्तल समेत अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

चार भागों में बांटा गया ग्रीन कॉरिडोर प्रोजेक्‍ट

बैठक में प्रोजेक्ट इम्प्लीमेशन यूनिट के सदस्य अनिल कुमार सिंह सेंगर ने बताया कि, ग्रीन कॉरिडोर प्रोजेक्ट को चार भागों में विभाजित किया गया है। इसमें पार्ट-1 के तहत आईआईएम रोड से हार्डिंग ब्रिज तक लगभग 7 किमी नदी के दोनों तरफ, जिसकी ड्रॉफ्ट डीपीआर एक अगस्‍तर तक और फाइनल डीपीआर 15 अगस्‍त तक मेसर्स टाटा कन्सल्टेन्सी इंजीनियर्स लि0 द्वारा उपलब्ध करायी जायेगी।

इसमें निर्देश दिए गए कि तटबंध के लिए भूमि अधिग्रहण की कार्यवाही और दांये तटबंध के चैड़ीकरण के लिए भूमि अधिग्रहण की कार्यवाही कैटिल कॉलोनी के भूमि विवादों को तेज गति से निपटाया जाए। बाएं तटबंध में घैला गांव में तटबन्ध के एलाइनमेन्ट के लिए प्रस्ताव सिंचाई विभाग द्वारा जल्‍द उपलब्ध कराया जाए।

छह जगहों पर बनेंगे एलीवेटेड फ्लाईओवर

वहीं, पार्ट-2 के तहत छह स्थानों पर एलीवेटेड फ्लाईओवर प्रस्तावित किए गए हैं, जिनके डीपीआर तैयार करने की कार्यवाही भी साथ-साथ कन्सल्टेन्ट द्वारा की जा रही है। पार्ट-3 के अंतर्गत गोमती नदी के दांये तटबंध पर पिपराघाट से शहीद पथ तक बंधे का निर्माण करते हुए 4-लेन सड़क का निर्माण कार्य प्रस्तावित किया गया है। इस पार्ट में आर्मी लैंड आ रही है, इसलिए आर्मी के साथ जल्‍द से जल्‍द बैठक की जाए और भूमि अधिग्रहण की कार्यवाही भी शीघ्र करने के निर्देश दिये गये हैं।

इसके अलावा पार्ट-4 के तहत शहीद पथ से किसान पथ तक गोमती नदी के दोनों तटबंधों (बांये एवं दायें) पर बंधा निर्माण करते हुए 4-लेन सड़क का निर्माण कार्य प्रस्तावित किया गया है। बैठक में यह भी निर्देश दिए गए कि प्रस्तावित कॉरिडोर के आस-पास कामर्शियल पाकेट्स डेवलेप किये जाने के लिए भूमि का चिन्हांकन भी कर लिया जाये।

वित्तीय रूप से फीजिबल बनाया जाएगा प्रोजेक्‍ट

इसके विकास को डीपीआर में भी सम्मिलित किया जाये, जिससे होने वाली आय से ग्रीन कॉरिडोर प्रोजेक्ट को वित्तीय रूप से फीजिबल बनाया जा सकेगा। इसके अलावा यह निर्देश भी दिए गए कि पर्यावरणीय अनापत्ति व अन्य अनापत्तियां प्राप्त करने के लिए भी कार्यवाही प्रारम्भ कर दी जाए।

अमेरिका में रहस्यमय बीमारी से मर रहे हजारों पक्षी, नए वायरस की दस्तक?

Previous article

राजस्थान: घुसपैठ रोकने के लिए लगाई गई कई इलाकों में धारा, रहेंगी पाबंदियां

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured