February 23, 2024 10:32 pm
featured यूपी

त‍िकुन‍िया ह‍िंसा की बरसी पर क‍िसान नेता राकेश ट‍िकैत पहुंचे लखीमपुर खीरी, सरकार पर बोला हमला

AKS 3579 01 0 1640586782089 1642567340312 त‍िकुन‍िया ह‍िंसा की बरसी पर क‍िसान नेता राकेश ट‍िकैत पहुंचे लखीमपुर खीरी, सरकार पर बोला हमला

 

राकेश टिकैत तिकुनिया हिंसा में मारे गए 4 किसानों की पहली बरसी में शामिल होने के लिए लखीमपुर खीरी पहुंचे। राकेश टिकैत गुरुद्वारा कौड़ियाला घाट में आयोजित अखंड पाठ और कीर्तन में शामिल हुए।

यह भी पढ़े

UP News: यूपी की इस विधानसभा सीट पर उपचुनाव की तारीख का ऐलान, जानें कब होगी वोटिंग

 

इस दौरान उन्होंने कहा कि घटना के एक साल बाद भी आरोपियों को सजा नहीं हुई है। उन्होंने केंद्र सरकार पर भी निशाना साधते हुए कहा कि सत्ता का दुरूपयोग किया जा रहा है। बता दें कि तिकुनिया में तीन अक्टूबर 2021 को कृषि कानून के विरोध आयोजित आंदोलन के दौरान भीषण हिंसा हो गई थी। इसमें चार किसानों और एक पत्रकार समेत आठ लोगों की मौत हो गई थी। इस घटना में केंद्रीय गृहराज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी के पुत्र आशीष मिश्र समेत 14 आरोपित जेल में बंद हैं।

123 त‍िकुन‍िया ह‍िंसा की बरसी पर क‍िसान नेता राकेश ट‍िकैत पहुंचे लखीमपुर खीरी, सरकार पर बोला हमला

इस घटना के एक साल पूरे होने के बाद किसानों ने कौड़ियाला घाट गुरुद्वारे पर मृतक 4 किसानों की बरसी के लिए अखंड पाठ का प्रोग्राम रखा है। इसमें शामिल होने के लिए आए किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि 3 अक्टूबर को जिस तरीके से फिल्मों में दिखाई जाने वाली घटना को केंद्रीय गृह राज्य मंत्री के पुत्र ने रियल लाइफ अंजाम दिया इसे पूरी दुनिया ने देखा। एक साल होने को आया है, अब तक पीड़ित परिजनों को न्याय नहीं मिला है। वहीं किसानों से किए हुए वादों को लेकर वादा खिलाफी का आरोप लगाया। केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी की बर्खास्तगी की भी मांग की और कहा जब तक किसानों को न्याय नहीं मिल जाता है तब तक सरकार से हमारी लड़ाई जारी रहेगी।

AKS 3579 01 0 1640586782089 1642567340312 त‍िकुन‍िया ह‍िंसा की बरसी पर क‍िसान नेता राकेश ट‍िकैत पहुंचे लखीमपुर खीरी, सरकार पर बोला हमला

बरसी का आयोजन किसान संयुक्त मोर्चा के आह्वान पर किया गया है। फिलहाल प्रशासन पूरे मामले पर पैनी नजर रखे हुए है। किसी भी तरह की सभा और भाषणबाजी पर रोक लगाई गई है। संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से भी किसी तरह का कोई धरना प्रदर्शन या फिर कोई सभा आदि करने का कार्यक्रम जारी नहीं किया गया है। अखंड पाठ करके बरसी मनाई जा रही है और दिवंगत किसानों को श्रद्धांजलि दी गई।

Related posts

कोरोना नियम का पालन करते हुए होंगे सावन में शिव दर्शन

Aditya Mishra

सर्वे: देश में प्रति परिवार बच्चे पैदा करने की दर हुई कम, मुस्लिम अभी भी आगे

Breaking News

असम का सबसे बड़ा निवेशक सम्मेलन, प्रधानमंत्री करेंगे उद्घाटन

Rani Naqvi