featured यूपी

UP: कानपुर की असीम अरुण और काशी की कमान ए सतीश गणेश को, बने पहले पुलिस कमिश्‍नर

UP: कानपुर की असीम अरुण और काशी की कमान ए सतीश गणेश को, बने पहले पुलिस कमिश्‍नर

लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश की योगी सरकार ने राज्‍य में कानून व्‍यवस्‍था को मजबूती देने के लिए एक और ठोस कदम उठाते हुए कानपुर और वाराणसी में पुलिस कमिश्‍नरेट लागू कर दिया है।

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ की अध्‍यक्षता में गुरुवार को हुई कैबिनेट बैठक में प्रस्‍ताव पर मुहर लगाई गई। वहीं, शुक्रवार को असीम अरुण को कानपुर और ए सतीश गणेश को वाराणसी का पुलिस कमिश्‍नर बनाया गया है। आज शासन ने इस संबंध में आदेश जारी किया है।

कई जिलों के पुलिस कप्‍तान भी बदले

उत्‍तर प्रदेश शासन ने इसके साथ ही कई जनपदों के पुलिस कप्‍तान भी बदल दिए हैं। वहीं, कानपुर और वाराणसी में आइजी और डीआइजी रैंक के अधिकारियों के साथ पुलिस अधीक्षक रैंक के अधिकारियों की तैनाती के लिए लिस्ट तैयार की जा रही है।

आइपीएस असीम अरुण

1994 बैच के वरिष्‍ठ आइपीएस अधिकारी असीम अरुण इस समय बतौर अपर पुलिस महानिदेशक डायल 112 की जिम्मेदारी संभाल रहे थे। उत्तर प्रदेश के कन्नौज जिले के निवासी असीम अरुण का जन्म वर्ष 1970 में हुआ था।

आइपीएस ए सतीश गणेश

वहीं, 1996 बैच के आइपीएस अधिकारी ए सतीश गणेश इस समय बतौर अपर पुलिस महानिदेशक आगरा में तैनात थे। मध्य प्रदेश के बिलासपुर के निवासी ए सतीश गणेश का जन्म वर्ष 1969 में हुआ था।

लखनऊ और नोएडा के बाद वाराणसी और कानपुर में भी कमिश्नरेट सिस्टम लागू होने से अब प्रदेश में चार महानगरों में पुलिस कमिश्‍नरी प्रणाली लागू हो गई है। वहीं, अब इन दोनों जिलों में पुलिस अधिकारियों को पुलिस कमिश्नर, ज्वॉइंट कमिश्नर, डिप्टी कमिश्नर, असिस्टेंट कमिश्नर जैसे पद दिए जाएंगे। यहां पुलिस कमिश्‍नरेट सिस्टम लागू होने के बाद अब पुलिस अधिकारी को डीएम (जिलाधिकारी) और कार्यकारी मजिस्ट्रेट (एक्जीक्यूटिव मजिस्ट्रेट) के अधिकार मिलेंगे।

दो-दो भागों में बंटे कानपुर और वाराणसी

आपको बता दें कि पुलिस कमिश्‍नरेट सिस्‍टम लागू होने से कानपुर और वाराणसी को दो-दो भागों में बांट दिया गया है। कानपुर को कानपुर नगर व कानपुर आउटर और वाराणसी को वाराणसी नगर और ग्रामीण क्षेत्र के रूप में बांटा गया है। इनमें जो थाने आएंगे, वो कुछ इस प्रकार हैं…

वाराणसी नगर (कमिश्नरेट)  

आदमपुर, कोतवाल, भेलूपुर, रामनगर, मड़ुवाडीह, लंका, जैतपुरा, चेतगंज, सिगरा, शिवपुर, छावनी, सारनाथ, दशाश्वमेध, लालपुर-पांडेयपुर, चौक, पर्यटक, लक्सा और महिला थाना।

वाराणसी ग्रामीण  

सिंधौरा, लोहता, रोहनियां, बड़ागांव, जंसा, मिर्जामुराद, चौबेपुर, कपसेठी, चोलापुर और फूलपुर।

कानपुर नगर (कमिश्नरेट)

फीलखाना, कोतवाली, मूलगंज, हरवंश मोहान, कलेक्टरगंज, बादशाही नाका, रायपुरवा, अनवर गंज, छावनी, बैकलगंज, चकेरी, रेल बाजार, ग्वाल टोली, कर्नलगंज, सीसामऊ, कोहना, चमनगंज, बजरिया, नवाबगंज, स्वरूपनगर, कल्याणपुर, काकादेव, बिठूर, पनकी, जूही, बाबू पुरवा, नौबस्ता, किदवईनगर, गोविंद नगर, फजल गंज, बर्रा, नजीराबाद, अरमापुर और महिला थाना।

कानपुर आउटर  

बिधनू, महाराजपुर, सचेंडी, नर्वल, बिल्हौर, चौबेपुर, ककवन, शिवराजपुर, सजेती, घाटमपुर और साढ़।

Related posts

8 नवंबर 2021 का राशिफल : कई राशियों को हो सकती है आज लाभ की हानि, जानें आज का राशिफल

Neetu Rajbhar

पश्चिम बंगाल में हिंसा ने लिया जन्म, पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले

Pradeep sharma

टीकरी बॉर्डर पर किसानों ने तेज किया प्रदर्शन, सीएम मनोहर लाल खट्टर के बयान पर का किया विरोध

Rani Naqvi