November 27, 2022 3:30 am
featured Breaking News देश

तीन तलाक पर मुस्लिम बोर्ड ने कहा: पर्सनल लॉ को नहीं दी जा सकती चुनौती

Muslim Women तीन तलाक पर मुस्लिम बोर्ड ने कहा: पर्सनल लॉ को नहीं दी जा सकती चुनौती

नई दिल्ली। तीन बार तलाक कहकर शादी खत्म करने के प्रावधान को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने मांग की है कि तीन तलाक तलाक को चुनौती देने वाली याचिकाओं को खारिज किया जाना चाहिए। बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट में दायर अपने हलफनामें में यह बात कही है। हलफनामें में कहा गया है कि अगर इसे खत्म किया गया तो मर्द अपनी पत्नी से छुटकारा पाने के लिए उसे जलाकर मार सकता है या फिर उसका कत्ल कर सकता है।

Muslim Women

बोर्ड ने कहा कि शादी, तलाक और गुजाराभत्ता के मुद्दों पर मुस्लिम पर्सनल लॉ द्वारा बताई गई परंपराएं पवित्र ग्रंथ कुरान पर आधारित हैं और अदालतें ग्रंथ की पंक्तियों की जगह अपनी व्याख्या को स्थापित नहीं कर सकतीं। साथ ही पर्सनल लॉ को चुनौती नहीं दी जा सकती, क्योंकि ऐसा करना संविधान का उल्लंघन है। संविधान के अनुच्छेद-25, 26 और 29 के तहत पर्सनल लॉ को संरक्षण मिला हुआ है। बोर्ड की ओर से कहा गया है कि यह एक मिथक है कि तलाक के मामले में मुस्लिम पुरुषों को एकतरफा ताकत मिली होती है।

आपको बता दें कि तीन तलाक के मुद्दे पर अलग-अलग चार याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है। मार्च महीने में शायरा बानो नाम की महिला ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करके तीन तलाक, हलाला निकाह और बहु-विवाह की व्यवस्था को असंवैधानिक घोषित किए जाने की मांग की थी।

Related posts

रामपुर से आये 13 जमातियों में से तीन जमातियों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने से उत्तराखंड में मची खलबली 

Rani Naqvi

जियो का आईपीएल प्लान,सभी जियो यूजर्स को मिलेगा 8जीबी फ्री डाटा

lucknow bureua

यें थी श्री राम की बड़ी बहन इसलिए त्याग दिया गया था

mohini kushwaha