देश भक्ति की ये शायरी आप में भर देंगी जोश

नई दिल्ली। धरती सुनहरी अंबर नीला हर मौसम रंगीला ऐसा देश है मेरा….ऐसा देश है मेरा।आज भारत अपना 69वां गणतंत्र दिवस मना रहा है।आज के दिन हमारा संविधान लागू हुआ था और तब से लेकर आज तक हम अपने बनाए कानून का पालन कर रहें हैं।देशभक्ति पर लेकर गीत बहुत हैं और उतनी ही है शायरी।आइये जानते हैं यहां राष्ट्र पर देशभक्ति से जुड़ी शायरी।

 

ना जियो धर्म के नाम पर
ना मरो धर्म के नाम पर
इंसानियत ही है धर्म वतन का
बस जियो वतन के नाम पर

वतन हमारा ऐसे ना छोड़ पाए कोई
रिश्ता हमारा ऐसे ना तोड़ पाए कोई
दिल हमारा एक है एक है हमारी जान
हिन्दुस्तान हमारा है हम है इसकी शान

लिख रहा हूं मैं अंजाम
जिसका कल आगाज आएगा
मेरे लहू का हर एक कतरा
इंकलाब लाएगा

खूब बहती है अमन की गंगा बहने दो
मत फैलाओं देश में दंगा रहने दो
लाल हरे रंग में ना बाटो हमको
मेरे छत पर एक तिरंगा रहने दो

जमाने भर में मिलते हैं आशिक कई
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता
नोटो में भी लिपटकर सोने में सिमट कर मरे हैं कई
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफन नहीं होता