November 27, 2022 1:57 pm
बिज़नेस

सुरेश प्रभु ने की रेलवे के एकीकृत मोबाइल एप सहित कई यात्री सुविधाओं की शुरुआत

suresh prabhu, launches, passenger, integrated, mobile app

नई दिल्ली। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने शुक्रवार को यहां रेलवे के नए एकीकृत मोबाइल एप- रेल सारथी और दिव्यांगों को थर्ड एसी कोच में आरक्षण की अतिरिक्त सुविधा सहित कई अन्य यात्री और माल ढुलाई की पहल का उद्घाटन किया।

rahul gandhi 3 सुरेश प्रभु ने की रेलवे के एकीकृत मोबाइल एप सहित कई यात्री सुविधाओं की शुरुआत

रेल मंत्री सुरेश प्रभु कहा कि यात्रियों को अच्छी सुविधा देने में एकीकृत मोबाइल एप की जरूरत थी| यह इस दिशा में एक सशक्त पहल है। उन्होंने कहा कि एकीकृत मोबाइल एप टिकट बुक करने के अलावा यात्रा के दौरान ट्रेन में साफ-सफाई की व्यवस्था व भोजन आदि की मांग को तत्काल पूरा करने में अहम भूमिका निभाएगा।

उन्होंने कहा कि फिलहाल यात्रियों को अलग-अलग जरूरतों के हिसाब से कई मोबाइल एप डाउनलोड करने पड़ते हैं लेकिन इस एप के शुरू होने से यात्रियों को सुविधा होगी। इसमें महिलाओं की सुरक्षा, शिकायत सुविधा और सुधार संबंधी सलाह देने का भी प्रावधान है। इतना ही नहीं इससे हवाई जहाज की यात्रा का टिकट भी बुक कराया जा सकेगा।

एप के अलावा रेल मंत्री ने रेलवे के थर्ड एसी कोच में दिव्यांग लोगों के लिए 2 सीटों का अतिरिक्त कोटा सुरक्षित करने की भी शुरूआत की। थर्ड एसी में यात्रा के लिए लोअर बर्थ दिव्यांग के लिए और उसके ऊपर वाली बर्थ उसके साथ यात्रा करने वाले के लिए आरक्षित रहेगी। यह स्लीपर क्लास में 4 बर्थ के मौजूदा कोटा के अतिरिक्त होगा। रेल पर्यटन को प्रोत्साहित करने के लिए रेलवे ने अब विदेशी पर्यटकों को 365 दिन पहले टिकट बुक कराने की सुविधा शुरू की है।

पहले यह समय सीमा 120 दिन थी। इसके अलावा उन्होंने ड्वार्फ कंटेनरों के लिए नए फ्रेट ढांचे का लोकार्पण किया। जबलपुर स्टेशन के प्लेटफार्म संख्या 6 पर एस्केलेटर और प्लेटफार्म संख्या 4,5 एवं 6 पर कोच गाइडेंस सिस्टम का उद्घाटन किया। प्रमुख ग्राहकों के साथ दीर्घ अवधि के अनुबंध के अंतर्गत समझौते पर हस्ताक्षर भी किये गये।

Related posts

किसानों के लिए वरदान बना सेक्स्ड सीमेन, लागत कम दूध उत्पादन हो रहा ज्यादा

Trinath Mishra

Cryptocurrency पर सरकार संसद में पेश करेगी बिल, आखिर है क्या ये करेंसी? आइए जानें

Rahul

महंगाई ने तोड़ा रिकॉर्ड, औद्योगिक उत्पादन आंकड़ों ने दी राहत

Rani Naqvi