सीएम रावत के निर्देश पर चारधाम यात्रा मार्गों परचिकित्सा के लिए मजबूत कदम उठाये गए

सीएम रावत के निर्देश पर चारधाम यात्रा मार्गों परचिकित्सा के लिए मजबूत कदम उठाये गए

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के निर्देश पर चारधाम यात्रा मार्गों पर व्यापक चिकित्सा सुविधाए सुनिश्चित करने के लिए मजबूत कदम उठाये गये हैं। यात्रा मार्गो पर श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए मेडिकल रिलीफ पोस्ट, चिकित्सा इकाइयां, एम्बुलेंस, ब्लड बैंक, ट्रामा सेंटर आदि की समुचित व्यवस्था की गई है। बद्रीनाथ धाम में ‘‘हाइपरबेरिक ऑक्सीजन चैम्बर’’ लगाया गया है। जबकि केदारनाथ, गंगोत्री एवं यमुनोत्री में भी यह व्यवस्था शीघ्र ही शुरू की जायेगी। अधिक ऊँचाई वाले क्षेत्रों में श्रद्धालुओं को हृदय से सम्बन्धित समस्याओं के त्वरित निदान के लिए ‘हाइपरबेरिक ऑक्सीजन चैम्बर’ की व्यवस्था की गई है। यात्रियों को हृदय सम्बन्धी उपचार के लिए स्टैण्डर्ड ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल गाइडलाईन का अनुपालन करने के निर्देश स्वास्थ्य विभाग को दिये गये हैं।

पैरामेडिकल स्टाफ की तैनाती की गई

बता दें कि सचिव स्वास्थ्य नितेश झा ने बताया कि यात्रा मार्ग पर चिकित्सा अधिकारी/फार्मेसिस्ट एवं अन्य पैरामेडिकल स्टाफ की तैनाती कर दी गई है। मधुमेह, उच्च रक्तचाप वाले लोगों एवं वरिष्ठ नागरिक को आकस्मिक उपचार के लिए इकोस्प्रिन एवं सोर्बिट्रेट दवाओं की व्यवस्था की गई है। अधिक ऊचाँई पर होने वाले रोगों के उपचार हेतु प्रशिक्षित ‘सिक्स सिगमा हेल्थ केयर’, नई दिल्ली द्वारा उत्तराखण्ड में चारों धाम के यात्रा मार्गों पर 21 जून तक विशिष्ठ सेवाएं दी जायेगी। इस हेल्थ केयर सेंटर द्वारा केदारनाथ धाम में कार्डियोलाॅजिस्ट, पल्मोनोलॉजिस्ट की सुविधा भी उपलब्ध कराई गई है।

वहीं यमुनोत्री धाम में भी शीघ्र ही कार्डियोलॉजिस्ट उपलब्ध कराये जाएंगे। चारधाम यात्रा में आने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए हेल्पलाइन नम्बर-104 को भी सुदृढ़ किया गया है। जिसके माध्यम से सभी स्वास्थ्य संबंधी आवश्यक सूचना दी जायेगी तथा शिकायत एवं सुझाव भी लिए जायेंगे। हेल्प लाइन के माध्यम से चारधाम यात्रा मार्गो पर श्रद्धाुलुओं को स्वास्थ्य सुविधाओं की जानकारी भी उपलब्ध कराई

साथ ही सचिव स्वास्थ्य श्री नितेश झा ने बताया कि चारधाम यात्रा मार्गों में कुल 20 स्थानों पर मेडिकल रिलीफ पोस्ट बनाये गये हैं। 08 स्थानों पर फस्र्ट मेडिकल रिस्पोन्डर की सुविधा उपलब्ध कराई गई है, जबकि 103 स्थानों पर चिकित्सा इकाईयां बनाई गई हैं। इसके अलावा विशेषज्ञ चिकित्सकों, फार्मासिस्टों एवं स्टाफ नर्स की समुचित व्यवस्था की गई है। चारधाम यात्रा मार्ग में 50 प्रमुख स्थानों पर एम्बुलेंस की व्यवस्था की गई।

सचिव स्वास्थ्य श्री झा ने बताया कि आपातकालीन स्थिति में विशेषज्ञ चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने हेतु उच्च चिकित्सीय संस्थानों जैसे-मैक्स हाॅस्पिटल, हिमालयन हॉस्पिटल, महन्त इन्द्रेश हॉस्पिटल तथा बिरला ग्रुप से समन्वय स्थापित कर उनका सहयोग प्राप्त किया जा रहा है। चारों धामों में टेली मेडिसिन की सुविधा आरम्भ की जाने वाली है। केदारनाथ धाम में टेली मेडिसिन की तैयारियाँ पूर्ण हो चुकी है। उन्होंने बताया कि यात्रा मार्ग पर किसी भी तरह की दुर्घटना होने पर विशेष त्वरित राहत दल की व्यवस्था की गई है। पीड़ितों को निकट अस्पताल अथवा आवश्यकतानुसार जौलीग्रान्ट एयरपोर्ट तक ले जाने हेतु मुफ्त वाहन उपलब्ध कराया जायेगा।