राज्य में ऐसा क्या हुआ है जो अमित शाह सरकार की पीठ थपथपा गए ?

देहरादून। अपने एक दिवसीय दौरे पर आये पार्टी अध्यक्ष अमित शाह राज्य की सरकार को दस में से दस नंबर दे गए है | राज्य में भले ही आम जनता और बेरोजगारों को धरना देने पर मजबूर होना पड़ रहा हो कर्ज का बोझ भले ही राज्य पर हर रोज बढ़ रहा हो लेकिन अमित शाह ने राज्य सरकार के मुखिया और उनके मंत्रीओ के कामो की सराहना कर गए है | ये बात सरकार के एक दो मंत्री नहीं बल्कि खुद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और राज्य सरकार के तमाम मंत्री रहे है।

 

 

कल अमित शाह देहरादून में थे इस दौरान शाह ने पार्टी के हर नेता से बात की और लगातार एक के बाद एक बैठक की बैठक में अमित शाह ने 2019 में जीत का मन्त्र भी राज्य सरकार को दिया है | मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत का कहना है की है पार्टी अध्यक्ष के आने से कार्यकर्ताओ में जोश बढ़ा है साथ ही राज्य सरकार के कामो को भी पार्टी अध्यक्ष सराहा है बीजेपी के अध्यक्ष का साल में दो बार उत्तराखंड आना ये बताता है की पार्टी के लिए पांच लोकसभा wala राज्य भी कितना महत्वपूर्ण है।

राज्य सरकार ये कह रही है की अमित शाह ने राज्य सरकार के कामो को बारीकी से देखा है इतना ही नहीं केंद्र की योजनाए जिस तरह से राज्य के हर व्यक्ति तक जा रही है उसकी भी पार्टी अध्यक्ष ने सराहना की है | सरकार के प्रवक्ता मदन कौशिक की माने तो अमित शाह ने सरकार की पीठ भी थपथपाई है और संघटन स्तर से भी राज्य सरकार को वाहवाही मिल रही है

उधर सरकार में वरिष्ठ मंत्री प्रकाश पंत ने कहा है की वैसे तो राज्य में बीजेपी हमेसा से ही चुनावो की तैयारी में रहती है लेकिन पार्टी अध्यक्ष का साल में दो बार दौरा अगरव होता है तो ये साबित होता है की दिल्ली मुख्यलय में बैठे नेता भी राज्य को तवज्जो दे रहे है और कामो को देख रहे है लिहाजा ऐसे में हमारी जनता के प्रति जिम्मेदारी और बढ़ जाती है

बरहाल राज्य सरकार के कामो को पार्टी के मुखिया भले ही सराहा गए हो लेकिन हकीकत ये भी है की बीते सवा साल में उत्तराखंड में वही समस्या मुँह बाये खड़ी है जो आज से सवा साल पहली थी यानी राज्य में कर्मचारियों तक को वेतन नहीं मिल रहा है | ऐसा पहली बार हो रहा है की अपनी मानगो को लेकर राज्य कर्मचारी विरोध की तैयारी कर रहा हो | केंद्र से बार बार ग्रीन बोनस की मांग पर भी केंद्र का रुक ना देने का है | राज्य में सालो से हाइवे के काम रुके है इतना ही नहीं सरकार आज भी करोडो रूपये का कर्ज लेने पर मजबूर हो रही है ऐसे में सवाल ये है की ऐसा क्या काम किया है राज्य सरकार ने जिसको लेकर राज्य सरकार की अमित शाह ने पीठ थपथपाई हो ?