featured उत्तराखंड

लॉकडाउन के बीच उत्तराखंड में कोरोना का सातवां मामला आया सामने, सूबेदार में कोरोना संक्रमण की हुई पुष्टि 

उत्तराखँड लॉकडाउन के बीच उत्तराखंड में कोरोना का सातवां मामला आया सामने, सूबेदार में कोरोना संक्रमण की हुई पुष्टि 

देहरादून। लॉकडाउन के बीच उत्तराखंड में कोरोना का सातवां मामला सामने आया है। देहरादून में यह छठा मामला है। राजस्थान निवासी एक सूबेदार में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। वह दस मार्च को छुट्टी के बाद अपनी बटालियन में लौटे थे। प्रदेश में अब तक सात मामलों में कोरोना की पुष्टि हुई है, जिनमें इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वन अकादमी के दो प्रशिक्षु आइएफएस ठीक भी हो गए हैं। 

बता दें कि जबकि एक प्रशिक्षु आइएफएस, एक अमरीकी नागरिक और दुबई से लौटे सेलाकुई निवासी एक युवक का दून अस्पताल में इलाज चल रहा है। वहीं, स्पेन से लौटे दुगड्डा निवासी एक युवक में भी कोरोना संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है। रविवार को देहरादून के सैन्य अस्पताल में भर्ती 47 वर्षीय एक सूबेदार में कोरोना की पुष्टि हुई। बताया गया कि वह चकराता में टू टू बटालियन में तैनात हैं। 

वहीं दस मार्च को वह छुट्टी पूरी कर राजस्थान से लौटे थे। इस बीच उनमें किसी भी तरह के लक्षण नहीं थे। जानकारी के अनुसार 24 मार्च को उनकी तबीयत खराब हुई। जिसके बाद उन्हें दून स्थित सैन्य अस्पताल में रेफर कर दिया गया। 26 मार्च को वह अस्पताल में भर्ती हुए और 27 मार्च को उनका सैंपल जांच के लिए हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज स्थित लैब में भेजा गया। रविवार को प्राप्त रिपोर्ट में उनमें कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार मरीज की विदेश की कोई ट्रैवल हिस्ट्री नहीं है। वह संभवत: राजस्थान में किसी कोरोना संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए। यहां पहुंचने में उनमें किसी तरह के लक्षण नहीं थे। काफी वक्त बाद लक्षण दिखाई दिए।  

साथ ही कोरोना संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण के लिए स्वास्थ्य विभाग ने पॉजीटिव पाए गए सभी व्यक्तियों के संपर्कों को चिहिन्त करने का काम तेज कर दिया है। स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. अमिता उप्रेती ने बताया कि चिन्हित व्यक्तियों की स्क्रीनिंग कर उन्हें होम या फैसिलिटी क्वारंटाइन में रखा जा रहा है। इस बीच विदेश यात्रा से आए 1730 लोगों को निगरानी में रखा गया है। जिनमें 31 व्यक्ति अस्पतालों में आइसोलेशन में रखे गए हैं। डॉ. उप्रेती के अनुसार कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण के लिए 1479 चिकित्सक, 952 स्टाफ नर्स, 170 लैब टेक्नीशियन और 1751 फार्मासिस्ट को प्रशिक्षित किया गया है। इसके अतिरिक्त पुलिस, एसडीआरएफ, पीआरडी, होमगार्ड, गढ़वाल मंडल विकास निगम, कुमाऊं मंडल विकास निगम और सैनिटेशन कर्मचारियों को भी प्रशिक्षण दिया गया है।

Related posts

झारखंडः पर्यटन कर्मियों की तत्परता से बची हुंडरू फॉल में डूब रहे दो छात्रों की जान  

mahesh yadav

भारत में 85 लाख के पार कोरोना केस, 24 घंटों में 45,674 नए मामले

Samar Khan

टिहरी झील के आसपास पर्यटन गतिविधियां विकसित करने की योजना तैयार कर ली गई हैं

Rani Naqvi