January 23, 2022 2:21 am
featured पंजाब

विधानसभा चुनाव से पहले चन्नी सरकार का बड़ा फैसला, पानी का 500 करोड़ रुपये बकाया बिल होगा माफ

विधानसभा चुनाव से पहले चन्नी सरकार का बड़ा फैसला, पानी का 500 करोड़ रुपये बकाया बिल होगा माफ

पंजाब में विधानसभा चुनावों से पहले चन्नी सरकार ने जनता को बिजली-पानी में बड़ी राहत दी है। सरकार ने जहां 500 करोड़ रुपये पानी का बकाया बिल माफ करने का फैसला लिया है तो वहीं बिजली की दरें 3 रुपये प्रति यूनिट करने का फैसला लागू करने का फैसला किया।

Punjab: किसानों के 'भारत बंद' को पंजाब सरकार का समर्थन, CM चन्नी ने बुलाई  कैबिनेट की इमरजेंसी मीटिंग, पास किया अहम प्रस्‍ताव | punjab cm charanjit  Singh Channi ...

पानी का 500 करोड़ रुपये बकाया बिल होगा माफ

पंजाब की चन्नी सरकार ने राज्य के 500 करोड़ रुपये बकाया पानी के बिलों को माफ करने का फैसला लिया है। सरकार ने राज्य के लोगों को बड़ी राहत देते हुए पानी के बकाया बिलों को माफ करने का फैसला किया है। प्रदेश सरकार की ओर से लिए गए फैसले के अनुसार शहरी क्षेत्रों में विभाग द्वारा चलाई जा रही योजनाओं के लिए 17.98 करोड़ माफ किए गए हैं। ग्राम पंचायतों/समितियों द्वारा चलाई जा रही योजनाओं के लिए भी 224.55 करोड़ की राशि माफ की गई है। जबकि जल आपूर्ति एवं स्वच्छता विभाग की ओर से चलाई जा रही योजनाओं के ग्रामीण उपभोक्ताओं के पानी के बिलों के 256.97 करोड़ रुपये के बकाए माफ किए गए हैं।

ये भी पढ़ें:-

राजस्थान:  ओमिक्रॉन के सभी मरीज हुए ठीक, लेकिन कोरोना की बढ़ गई रफ्तार

नवंबर से ही बिजली की दरें 3 रुपये प्रति करने का फैसला

वहीं बिजली को लेकर लेकर भी चन्नी सरकार ने लोगों को बड़ी राहत दी है। सरकार ने दिसंबर के बजाए नवंबर से ही बिजली की दरें 3 रुपये प्रति यूनिट करने का फैसला लागू करने का फैसला किया। राज्य सरकार ने पहले घोषणा की थी कि 7 किलोवॉट तक स्वीकृत लोड वाले उपभोक्ताओं के टैरिफ में 3 रुपये प्रति यूनिट कम किए जाएंगे। इससे सरकार पर 151 करोड़ रुपये का अतिरिक्त आर्थिक बोझ आएगा। हालांकि, बयान के अनुसार, इससे करीब 71.75 लाख में से करीब 69 लाख उपभोक्ताओं को फायदा मिलेगा।

सफाई सेवकों’ की सेवाओं को नियमित करेगी सरकार

इसके साथ ही पंजाब में ‘सफाई सेवकों’ की सेवाओं को नियमित करने के फैसले लिया है। इस फैसले का फायदा 4 हजार 587 संविदा कर्मचारियों को मिलेगा। जो शहरी निकाय विभाग में काम कर रहे हैं। वहीं राज्य भर के कपास उत्पादकों को बड़ी राहत देते हुए कैबिनेट ने कपास की फसल के 76-100 प्रतिशत नुकसान के लिए राहत राशि बढ़ाने की मंजूरी दे दी।

Related posts

आगरा: महिला के आठवें आशिक ने की सातवें पति की हत्या की, जानिए पूरा मामला

Shailendra Singh

18 घंटे की काउंटिंग के बाद एक बार फिर सीएम बने नीतीश, NDA को स्पष्ट बहुमत

Hemant Jaiman

Lucknow: जिलाधिकारी ने कंटेनमेंट जोन का किया निरीक्षण, कहीं ये बातें

Aditya Mishra