September 28, 2021 12:06 am
featured पंजाब

चंडीगढ़ में पंजाब कैबिनेट की बैठक, सरकारी सेवाओं से सेवानिवृत्ति की आयु सीमा 2 साल कम किए जाने के फैसले पर मुहर

पंजाब कैबीनेट चंडीगढ़ में पंजाब कैबिनेट की बैठक, सरकारी सेवाओं से सेवानिवृत्ति की आयु सीमा 2 साल कम किए जाने के फैसले पर मुहर 

चंडीगढ़. चंडीगढ़ में सोमवार को पंजाब कैबिनेट की बैठक हुई। इसमें प्रदेश में सरकारी सेवाओं से सेवानिवृत्ति की आयु सीमा 2 साल कम किए जाने के फैसले पर मुहर लगा दी गई। वहीं, प्रदेश में लोकायुक्त बिल को भी कैबिनेट ने मंजूरी दे दी है। 28 फरवरी को वित्तवर्ष 2020-21 के बजट में वित्तमंत्री मनप्रीत सिंह बादल ने सेवानिवृत्ति की उम्र 60 से घटाकर 58 साल कर देने का ऐलान किया था। सरकार के इस फैसले से कुल 5600 कर्मचारी व अधिकारी प्रभावित होंगे। सबसे ज्यादा असर शिक्षा विभाग पर पड़ेगा, जहां से 1800 के करीब शिक्षक 1 अप्रैल से रिटायर हो जाएंगे।

फैसले को दो चरणों में लागू किया जाएगा: मनप्रीत

मौजूदा समय में प्रदेश में 3 लाख 53 हजार कर्मचारी-अधिकारी सेवारत हैं। मनप्रीत बादल के मुताबिक सेवानिवृत्ति की उम्र कम करने के इस फैसले को दो चरणों में लागू किया जाएगा। जो कर्मचारी 59 साल के हो गए हैं, वो इस साल 31 मार्च को सेवानिवृत्त हो जाएंगे। जो कर्मचारी 58 साल के हो गए हैं, वो 30 सितंबर से सेवानिवृत्त होने लगेंगे।

एक्सपर्ट की राय: सरकार को नुकसान और फायदा दोनों होंगे 

एक्सपर्ट के तौर पर दैनिक भास्कर के साथ हुई बातचीत में पंजाब यूनिवसिर्टी के बिजनेस स्कूल में सेवारत डॉ. कुलविंद्र सिंह की राय पर गौर करें तो सरकार को पहले रिटायरमेंट एज बढ़ाने का फैसला नहीं लेना चाहिए था। अब जबकि दोबारा घटाने का फैसला सरकार कर चुकी है तो इसके फायदे और नुकसान दोनों ही तरह से सरकार पर असर पड़ेगा। जहां तक फायदे की बात है, अगर सरकार रिटायर हुए कर्मियों की जगह नए रखती है तो उसे प्रोबेशन पीरियड के दौरान बेसिक वेतन पर रखा जाता है। ऐसे में सरकार का खर्च सीधे 90% तक कम हो जाता है। यानि अगर कोई मौजूदा समय में 1 लाख वेतन ले रहा है तो उसी पद पर नई भर्ती करने पर सरकार को उसे बेसिक पे देनी होगी। जो 12 से 13 हजार बनती है। इससे सरकार का वेतन देने पर खर्च कम हो जाएगा। आर्थिक हालात सुधारने का सीधा फंडा होता है कि खर्च कम करे और आय को बढ़ाया जाए। पंजाब सरकार भी इसी पर चल रही है। दूसरी ओर रिटायरमेंट एज घटाने का सरकार को नुकसान भी है। जहां रिटायरमेंट एज पर पहुंचे कर्मचारी को अपने काम का अनुभव हो जाता है, जबकि नए कर्मचारी को उसका काम सिखाना पड़ता है।

किस विभाग में कितने कर्मचारी-अधिकारी होंगे जल्दी रिटायर

विभागरिटायर होने वाले कर्मचारी
एजुकेशन1800 टीचर्स
मेडिकल377 पैरामेडिकल, 53 एमबीबीएस
सोशल वैलफेयर378
पुलिस42 एसएसपी, डीएसपी 77
एक्साइज एंड टैक्सेशन103

 

Related posts

फतेहपुर में गो तस्‍करों से मुठभेड़, तमंचे सहित तीन शातिर गिरफ्तार

Shailendra Singh

इस दिन अहोई अष्टमी का व्रत रखेंगी माताएं, जानें व्रत के महत्व और विधि

Trinath Mishra

उपग्रह पर आधारित संचार प्रणाली चक्रवाती तूफान, ऊंची लहरों व सुनामी से निपटने में प्रभावी: डॉ. हषवर्द्धन

Trinath Mishra