featured देश हेल्थ

सरकार लोगों को वैक्सीन लेने के लिए नहीं कर सकती मजबूर- सुप्रीम कोर्ट

Supreme Court, answer, NGO, misuse, fund, central government

देश में कोरोना के मामले फिर से बढ़ने लगे हैं । ऐसे में एक बार फिर राज्य सरकारें सतर्क हो गई हैं । ताकि कोरोना के बढ़ते मामलों को रोका जा सके ।

यह भी पढ़े

 

 

PM Modi Germany Visit: जर्मनी की राजधानी बर्लिन पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, चांसलर से करेंगे मुलाकात

सुप्रीम कोर्ट का फैसला

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को कहा कि किसी भी व्यक्ति को वैक्सीनेशन के लिए बाध्य नहीं किया जा सकता है। जस्टिस एल नागेश्वर राव और जस्टिस बीआर गवई की बेंच ने सुनवाई करते हुए कहा कि आर्टिकल-21 के तहत व्यक्ति की शारीरिक अखंडता को बिना अनुमति नहीं भंग की जा सकती है। ऐसे में देश में वैक्सीनेशन अनिवार्य नहीं किया जा सकता है।

corona vaccine सरकार लोगों को वैक्सीन लेने के लिए नहीं कर सकती मजबूर- सुप्रीम कोर्ट

 

सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि कुछ राज्य सरकारों ने जो शर्तें लगाईं, सार्वजनिक स्थानों पर नॉन वैक्सीनेटेड लोगों को बैन करना सही नहीं है। इसके अलावा, SC ने केंद्र को COVID-19 टीकाकरण के प्रतिकूल प्रभावों का डेटा सार्वजनिक करने का भी निर्देश दिया है।

corona vaccine सरकार लोगों को वैक्सीन लेने के लिए नहीं कर सकती मजबूर- सुप्रीम कोर्ट

हालांकि, कोर्ट ने यह भी कहा कि वह संतुष्ट है कि मौजूदा वैक्सीन नीति को अनुचित और स्पष्ट रूप से मनमाना नहीं कहा जा सकता है। SC का कहना है कि सरकार सिर्फ नीति बना सकती है और जनता की भलाई के लिए कुछ शर्तें लगा सकती है।

suprim court सरकार लोगों को वैक्सीन लेने के लिए नहीं कर सकती मजबूर- सुप्रीम कोर्ट

आपको बता दें कि कोरोना वैक्सीनेशन पर 17 जनवरी 2022 को सुप्रीम कोर्ट में केंद्र ने हलफनामा दाखिल किया था। केंद्र ने अपने हलफनामा में कहा था कि देश भर में कोरोना वैक्सीनेशन अनिवार्य नहीं है, न किसी पर वैक्सीन लगवाने का कोई दबाव है।

Related posts

सोनू सूद के काम पर शिवसेना ने उठाए सवाल, कहा- लॉकडाउन में अचानक तैयार हो गया महात्मा गांधी

Rani Naqvi

दुनिया में ऐसी कोई ताकत नहीं जो भारत की ओर आंख उठाए- राजनाथ सिंह

Pradeep sharma

बीजेपी ने लोगों को आपस में लड़वाया- हेमंत सोरेन

Pradeep sharma