featured भारत खबर विशेष

भारत की धरती पर पहली बार गिरता हुआ दिखा उल्कापिंड, जानिए किस जगह दिखा ये खूबसूरत नजारा..

ulka 1 भारत की धरती पर पहली बार गिरता हुआ दिखा उल्कापिंड, जानिए किस जगह दिखा ये खूबसूरत नजारा..

आसमान से गिरने वाले उल्का पिंडों को लेकर लगातार खबरें आ रही हैं। यही कारण है कि, लोगों की उत्सुकता उल्का पिंड को जानने और उसको छुन के लेकर लगातार बढ़ती जा रही है। आपने कई सारी ऐसी खबरों को पढ़ा और सुना होगा। जिसमें उल्का पिंड से होने वाले नुकसान की जानकारी दी गई होगी।, लेकिन आपको बता दें, सभी उल्का पिंड पृथ्वी के लिए खतरा नहीं होते हैं। बल्कि हर साल 17 हजार से ज्यादा उल्का पिंड धरती पर गिरते हैं।

ulka 3 भारत की धरती पर पहली बार गिरता हुआ दिखा उल्कापिंड, जानिए किस जगह दिखा ये खूबसूरत नजारा..
गिरते हुए उल्का पिंड को देखना एक बेहद खूबसूरत नजारा होता है। जिसे भारत में बहुत ही कम देखा गया है। लेकिन इस बार आसमान से उल्का पिंडो की बारिश हुई है।ये खूबसूरत नजारा उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले देखने को मिला। अल्मोड़ा में आकाश से तेजी से धरती की ओर आता उल्का पिंड दिखाई दिया। जिसने भी इसे देखा उसके लिए यह कौतूहल बना रहा। उल्का पिंड धरती में किस स्थान पर गिरा इसकी अभी कोई जानकारी नहीं मिली है।

यह घटना रविवार रात की है। रात करीब साढ़े आठ बजे अल्मोड़ा में आकाश से धरती की ओर तेज रोशनी आती दिखी और कुछ ही सेकेंड में यह नजारा खत्म हो गया। अल्मोड़ा के अलावा हल्द्वानी, जोशीमठ, बदरीनाथ आदि स्थानों पर भी उल्का पिंड देखा गया। जिसेक बाद लोगों के मन में कई सारे सवाल उठने लगे।

https://www.bharatkhabar.com/another-woman-died-of-corona-virus/
खगोलशास्त्र के जानकारों के मुताबिक आकाश में कभी-कभी एक ओर से दूसरी ओर अत्यंत वेग से जाते हुए अथवा पृथ्वी पर गिरते हुए जो पिंड दिखाई देते हैं उन्हें ही उल्का पिंड कहते है। जो अकसर देखने को मिलते रहते हैं। इसीलिए इन्हें देखकर ज्यादा सोचने की कोई जरूरत नहीं है। काफी सारे लोगें ने उत्तराखंड में इस खूबसूरत नजारे को अपने कैमरे में कैद किया।

Related posts

सीएए को लेकर बिजनौर में हुई हिंसा में गिरफ्तार किए गए 83 लोगों में से अदालत ने 48 को दी जमानत

Rani Naqvi

विवेक हत्याकांड: भारी फजीहत के बाद नई FIR में दोनो सिपाहियों के नाम

mahesh yadav

चित्रकार के घर पर पथराव, कठुआ को लेकर किया था हिंदू देवी-देवताओं का अपमान

lucknow bureua