छात्रों के भविष्य से हो रहा खिलवाड़, शिक्षा के मंदिर में लहलहा रही गांजे की फसल

फतेहपुर: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर एक तरफ प्रशासन लगातार नशा कारोबारियों पर नकेल कसने का काम कर रहा है। वहीं दूसरी तरफ एक नामी-गिरामी कॉलेज में गांजे की फसल लहलहा रही है।

शिक्षा के मंदिर में गांजे की फसल देखकर कॉलेज में हड़कंप मचा हुआ है। यहां के प्रतिष्ठित कॉलेज में गांजे की फसल को खड़ा देखकर कई सवाल खड़े हो रहे हैं। वहीं कॉलेज प्रशासन इस गंभीर मुद्दे पर आंख मूंदे हुए है।

छात्रों के भविष्य से किया जा रहा खिलवाड़

पूरा मामला फतेहपुर के जीटी रोड के जीआईसी कॉलेज का है। इस कॉलेज में हजारों छात्र पढ़ते हैं और अपने उज्जवल भविष्य का निर्माण करने इस विद्यालय में आते हैं। यहां कक्षा छह से लेकर कक्षा 12 तक के छात्रों को शिक्षा दी जाती है।

वहीं, इसी जीआईसी कॉलेज की बाउंड्री के अंदर केंद्रीय विद्यालय भी बनकर तैयार हो गया है। इस विद्यालय में भी बड़ी मात्रा में स्कूली बच्चे पढ़ते हैं। इसी कॉलेज से लगा हुआ विद्यालय निरीक्षक का कार्यालय भी यहां मौजूद है। इसके बाद भी कालेज में बड़ी मात्रा में गांजे की खड़ी फसल चिंता पैदा कर रही है।

समाजसेवक ने कहा- दोषियों पर हो कार्रवाई

वहीं, जब इस मसले पर नशा मुक्ति का अभियान चला रहे समाजसेवक रूपम मिश्रा से बात की गई तो उन्होंने जीआईसी और केंद्रीय विद्यालय की बाउंड्री के पास उगी गांजे की फसल को बेहद शर्मनाक बताया। उन्होंने कहा कि जीआईसी कालेज क्षेत्र का प्रतिष्ठित विद्यालय है और यहां पर गांजे की फसल दिखना बहुत गंभीर मामला है।

उन्होंने कॉलेज प्रशासन से कहा कि जल्द ही गांजे की इस फसल को नष्ट किया जाए और दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की जाए। उन्होंने कहा कि बच्चों को एक बार अगर नशे की लत लग गई तो इसे छुड़ाना बहुत मुश्किल काम होगा।

जिला विद्यालय निरीक्षक ने किया बचाव

वहीं जब जिला विद्यालय निरीक्षक महेंद्र प्रताप सिंह से बात की गई तो उन्होंने कहा कि जीआईसी के प्रिंसिपल बहुत सेंसटिव हैं। उन्होंने कहा कि हो सकता है प्रिंसिपल को इस पौधे के बारे में जानकारी न हो। इस मामले की जांच की जाएगी और जल्द ही गांजे के इन पौधों को नष्ट करवा दिया जाएगा।

जिला विद्यालय निरीक्षक ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि किसी ने इसे उगाया होगा। ये अपने आप ही उग आए होंगे। इस मामले में अब सवाल ये उठता है कि क्या ये मामला इतना ही आसान है जितना जिला विद्यालय निरीक्षक बता रहे हैं।

हरदोई जिला अस्पताल में बड़ी लापरवाही, टॉर्च की रोशनी में हुआ इलाज

Previous article

जनता दरबार में सीएम से मदद लेने आए 109 वर्षीय महंत, बुजुर्ग से खुद मिलने गए योगी

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured