January 31, 2023 12:32 pm
featured उत्तराखंड

जितार सिंह को दुल्हन लाने के लिए चलना पड़ा आठ किमी बर्फ में पैदल

चमोली जितार सिंह को दुल्हन लाने के लिए चलना पड़ा आठ किमी बर्फ में पैदल

चमोली। उत्तराखंड के चमोली जिले के ऊंचाई वाले इलाकों में भारी बर्फबारी मुसीबत बनी हुई है। शादी विवाह का सीजन होने से बरातियों के साथ ही दूल्हे को बर्फ में पैदल दुल्हन के घर तक पहुंचना पड़ रहा है। जितार सिंह को दुल्हन लाने के लिए आठ किमी बर्फ में पैदल चलना पड़ा। चमोली जिले की निजमुला घाटी के अधिकांश गांव बर्फ से लकदक हैं। यहां के पाणा गांव निवासी थान सिंह के बेटे जितार सिंह की बृहस्पतिवार को पगना गांव निवासी राजे सिंह की पुत्री कविता से हुई, लेकिन पूरे गांव और रास्ते बर्फ से पटे हैं। 

ऐसे में बरात को करीब आठ किमी पैदल चलना पड़ा, जिसके बाद वह दुल्हन के घर तक पहुंचे। ग्रामीणों का कहना है कि अक्सर वसंत पंचमी तक बर्फ या तो पिघल जाती थी या कम हो जाती थी, इसलिए कई लोग वसंत पंचमी के दिन शादी तय करते हैं। ईराणी के प्रधान मोहन सिंह नेगी ने बताया कि क्षेत्र में हुई बर्फबारी से लोगों को शादी करने में परेशानी उठानी पड़ रही है।  

दो दिनों की बारिश और बर्फबारी के बाद बृहस्पतिवार को मौसम साफ हो गया, लेकिन चमोली जिले में अभी भी 100 से अधिक गांव बर्फ की आगोश में हैं। लोगों को दैनिक जीवन के काम निपटाने में काफी परेशानी उठानी पड़ रही है। बारिश और बर्फबारी से कई सड़कें बंद हैं, जबकि दो गांवों में बिजली आपूर्ति ठप है।

जिला आपदा प्रबंधन केंद्र के अनुसार जिले में अभी जोशीमठ-औली, तपोवन-करछौं, ढाक-करछौं-वाण, कुनारबैंड-घेस, घूनी-रामाणी,घाट-सुतोली-कनोल, दिवालीखाल-भराडीसैंण, गोपेश्वर-चोपता मोटर मार्ग बंद हैं। इन मार्गों पर बर्फ पड़ी होने के चलते वाहनों का आवागमन नहीं हो पा रहा है, जबकि जोशीमठ ब्लॉक के बैनाकुली और हनुमानचट्टी में बिजली आपूर्ति बाधित है। 

Related posts

इंदिरा गांधी से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कोई तुलना नहीं : सोनिया गांधी

shipra saxena

लैथापोरा में ट्रेनिंग कैंप पर हुआ हमला, सीआरपीएफ के दो जवान शहीद, मुठभेड़ जारी

Vijay Shrer

2022 में 13 शहर होंगे 5G, 20 सेकेंड में DOWNLOAD होगी HD मूवी

Rahul