October 24, 2021 12:42 am
featured दुनिया साइन्स-टेक्नोलॉजी

उत्तर कोरिया ने एक के बाद एक मिसाइलें दागी, जाने क्या है किम जोंग की रणनीति

किम जोंग उन

उत्तर कोरिया पिछले 40 वर्षों में लगभग 150 मिसाइलें दाग चुका हैं। मिसाइलो के इस प्रदर्शन को देख कर संयुक्त राष्ट्र को अहम फैसले लेने पड़े हैं। परमाणु हथियारों के परीक्षण के अतिरिक्त शक्ति के इस प्रदर्शन की वजह से संयुक्त राष्ट्र को उत्तर कोरिया पर कई पाबंदियां कई जरूरी पाबंदियां लगा रखी है। इसके अलावा उत्तर कोरिया ऐसा क्यों कर रहा है और इसके पीछे किम जोंग-उन की क्या रणनीति यह जानना बेहद जरूरी है। उत्तर कोरिया ने गुरुवार को बताया कि, पहली बार ट्रेन से बैलिस्टिक मिसाइलों का सफलतापूर्वक प्रक्षेपण हो चुका है। जबकि इससे एक दिन पहले ही उत्तर कोरिया ने समुद्र में भी दो मिसाइल दागी थीं।

उत्तर कोरिया की इस रणनीति के कारण कोरियाई महाद्वीप में तनाव बढ़ा है। जबकि उत्तर कोरिया मिसाइले दंगने से पीछे नहीं हट रहा है। संयुक्त राष्ट्र के कहने पर भी उत्तर कोरिया ने मिसाइलो का प्रदर्शन जारी रखा था। देश की सरकारी कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी ने कहा है कि, मिसाइलों को ट्रेन पर बने ‘मिसाइल रेजिमेंट’ के एक अभ्यास के दौरान लॉन्च किया गया है।मिसाइल 800 किलोमीटर दूर एक समुद्री लक्ष्य पर सटीक रूप से जा गिरीं।

मिसाइले दागे जाने के बाद सरकारी मीडिया के द्वारा जारी फुटेज में दिखाया गया है कि घने जंगल की पटरियों के किनारे पर रेल-कार लॉन्चर आग की लपटों से घिरा अजर रहा था। इससे लगातार मिसाइल निकल रही थी। इसके अलावा रेल के माध्यम से मिसाइले दागे जाने वाली बैलिस्टिक प्रणाली के अलावा उत्तर कोरिया के पास विभिन्न जमीनी और समुद्री लॉन्च पैड तकनीक भी मौजूद हैं जिसमें पनडुब्बियां भी शामिल की गई हैं। उत्तर कोरिया की अर्थव्यवस्था अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंधों के कारण काफी घटी है। जोकि उत्तर कोरिया पर परमाणु कार्यक्रम के कारण लगाए गए हैं। इसके अतिरिक्त विश्व के बाकी देश भी उत्तर कोरिया को चेतावनी दे चुके हैं। लेकिन इसके बावजूद इसके वो लगातार अपनी सैन्य ताकत बढ़ा रहा है। और लगातार मिसाइले दंगने में लगा है।

Related posts

BJP ने जारी की नए राज्‍य प्रभारियों की लिस्‍ट, जानें किसको मिली नई लिस्ट में जगह

Samar Khan

पाकिस्तान से संबंध करने को अमेरिका में विधेयक पेश

Srishti vishwakarma

7 जून को आरएसएस के कार्यक्रम में डॉ. प्रणब मुखर्जी का जाना लगभग तय

Rani Naqvi