featured यूपी

फतेहपुर: CCTV के सामने से अवैध खनन और ओवरलोडिंग, जिम्‍मेदारों का बयान हैरान करने वाला   

फतेहपुर: CCTV के सामने से अवैध खनन और ओवरलोडिंग, जिम्‍मेदारों का बयान हैरान करने वाला   

फतेहपुर: खनन और संभागीय परिवहन अधिकारी मौरंग के अवैध खनन और ओवरलोडिंग के खिलाफ कार्यवाई न करने के सौ बहाने खोजते हैं। तभी न तो जिले में अवैध खनन रुक रहा है और न ही ओवरलोडिंग के खिलाफ कार्रवाई हो रही है।

फतेहपुर जिले के सभी खनन क्षेत्रों में सीसीटीवी कैमरे लगे होने के बावजूद भी न तो अवैध खनन रुक रहा है और न ही ओवरलोडिंग रुक रही है। अब सवाल यह है कि क्या जब तक डीएम-एसपी सड़क पर नहीं उतरेंगे, तब तक कोई कार्रवाई नहीं होगी?

खनन स्‍थल के पास लगा सीसीटीवी कैमरा

असोथर थाना क्षेत्र के रमसोलेपुर, ललौली थाना क्षेत्र स्थित अढावल क्षेत्र, धाता थाना क्षेत्र के सलेमपुर मौरंग खनन क्षेत्र में अवैध खनन और ओवरलोडिंग की निगरानी के लिए सरकार ने पुख्ता इंतजाम किए हैं। इसमें खनन स्थल के पास ही 360 डिग्री वाला सीसीटीवी कैमरा लगाया गया है। यह कैमरा आसपास के गतिविधियों की लाइव फुटेज उत्तर प्रदेश भू तत्व एवं खनिज निदेशालय तक पहुंचाता है। कोई गड़बड़ी होने पर जिला खनन अधिकारी को कार्रवाई का आदेश दिया जाता है।

इतनी जबरदस्त प्लानिंग के बावजूद भी न अवैध खनन रुक रहा है और न ही ओवरलोडिंग। जहां असोथर थाना क्षेत्र के रमसोलेपुर खनन क्षेत्र में तीसरी आंख के सामने से खुलेआम ओवरलोडिंग होती है तो वहीं धाता थाना क्षेत्र के सलेमपुर में जेसीबी से यमुना की जलधारा को बदला जा रहा है।

आदेश मिलने पर कार्रवाई की बात  

इन सब पर खनन अधिकारी अजीत पाण्डेय का कहना है कि अवैध खनन पर जब तक निदेशालय से आदेश नहीं मिलेगा, तब तक वह कोई कार्रवाई नहीं करेंगे। ऐसे में लगता है कि शायद खनन अधिकारी कार्यवाई करना ही नहीं चाहते हैं, क्योंकि खनन क्षेत्रों में अवैध खनन और ओवरलोडिंग की उन्हें जानकारी न हो यह संभव नहीं है।

अब जरा संभागीय परिवहन के प्रवर्तन अधिकारी सुरेश कुमार यादव को समझ लीजिए। उन्हें जब ओवरलोडिंग की जानकारी मिलती है तो वह कार्रवाई न करने का बहाना खोजते हैं। वह अक्सर फोर्स न होने का रोना रोते हैं। उनके स्थानीय पुलिस और एसडीएम के साथ होने पर वह कार्रवाई करेंगे। अब भला जब जिम्मेदार अधिकारी इस तरह जिम्मेदारी निभा रहे हों तो भला अवैध खनन और ओवरलोडिंग कैसे रुके?

“खनन क्षेत्र और सड़क किनारे लगे सीसीटीवी कैमरे लखनऊ मुख्यालय से मॉनिटर होते हैं। ऐसे में अवैध खनन के बारे में जब भी हमें कोई आदेश मिलता है तो हम उस पर कार्रवाई करते हैं।”

अजीत पाण्डेय, खनन अधिकारी, फतेहपुर

Related posts

1 नवंबर 2022 का राशिफल, आइए जानें आज का पंचांग और राहुकाल का समय

Rahul

छत्तीसगढ़ सरकार ने अधिशेष धान इथेनॉल संयंत्रों को देने की इजाजत मांगी

Samar Khan

भारत की आजादी में मेरठ का रहा है खास महत्व

Breaking News