Breaking News featured देश यूपी राज्य हेल्थ

प्रदेश में फोकस टेस्टिंग से स्वास्थ्य विभाग तोड़ेगा कोरना की चेन

testing प्रदेश में फोकस टेस्टिंग से स्वास्थ्य विभाग तोड़ेगा कोरना की चेन

उत्तर प्रदेश में कोरोना की चेन को तोड़ने के लिए स्वास्थ विभाग ने कमर कस ली है। जिसको लेकर के स्वास्थ विभाग की तरफ से एक खास अभियान चलाया जाएगा। इस अभियान का नाम फोकस टेस्टिंग ड्राइव रखा गया है। जिसके तहत कि भीड़ भाड़ वाले इलाकों में कोरोना की जांच की जाएगी।

होली के पर्व को देखते हुए अलर्ट

होली के पर्व को ध्यान में रखते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कुछ दिन पूर्व कोरोना को लेकर बड़ी मीटिंग की थी। इस मीटिंग में कोरोना को लेकर के खास रणनीति तैयार की गई थी। इसका नतीजा है कि आने वाले दिनों में स्वास्थ विभाग की तरफ से कोरोना टैस्टिंग ड्राइव किया जाएगा। इसके तहत भीड़भाड़ वाले इलाकों में स्वास्थ विभाग की टीम रैंडम टेस्ट करेगी। इसके बाद जिन लोगों की रिपोर्ट कोरोना संक्रमित आएगी उनको अलग रखकर उनके इलाज की प्रक्रिया स्वास्थ्य की तरफ से की जाएगी। इसके अतिरिक्त इनके संपर्क में आए हुए लोगों को भी चिन्हित कर क्वॉरेंटाइन किया जाएगा । इसके अतिरिक्त उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिन जनपदों में कोरोना शंकर मित्रों की संख्या लगातार बढ़ रही हैं। उनको लेकर के भी खास ध्यान रखने के लिए कहा है। जिनमें लखनऊ, कानपुर, आगरा, गौतमबुध नगर को लेकर के स्वास्थ विभाग अलर्ट है।

कोरोना वैक्सीनेशन ले लिए भी टारगेट किया गया सेट

कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर के भी उत्तर प्रदेश में स्वास्थ्य विभाग में सभी जनपदों को खास निर्देश दिए दिए। इन निर्देशों में अहम है कि जिन जनपदों में 25 लाख से कम आबादी है। उन जनपदों में रोजाना 3000 लोगों को कोरोना वकसीनेशन का आदेश दे दिया गया है। इसके अतिरिक्त अन्य जो जनपद है जहां पर 25 लाख से अधिक लोग रह रहे हैं। वहां पर 5000 प्रतिदिन वकसीनेशन का टारगेट दिया गया है। जिससे कि आने वाले दिनों में कोरोना वैक्सीन ज्यादा से ज्यादा लोगों को लग पाए और यदि कोरोनावायरस के दुष्प्रभाव से लोगों को बचाया जा सके।

Related posts

क्या इस बार नहीं होगी बारिश, जानिए क्या कहा मौसम विशेषज्ञ ने…

Shailendra Singh

शाहरुख प्रकरण पर उमा बोलीं, ‘अब इन्हें भारत अच्छा लगने लगेगा’

bharatkhabar

सेना के सर्च अभियान के दौरान आतंकी ठिकानों से मिले चीनी झंडे

shipra saxena