featured धर्म

Happy Ram Navami 2022: राम नवमी आज, जानें पूजा, शुभ मुहूर्त, विधि, आरती और मंत्र

ram 6 Happy Ram Navami 2022: राम नवमी आज, जानें पूजा, शुभ मुहूर्त, विधि, आरती और मंत्र

Happy Ram Navami 2022: धार्मिक पुराणों के अनुसार चैत्र शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को भगवान राम ने माता कौशल्या की कोख से जन्म लिया था। हर साल चैत्र शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को राम नवमी मनाई जाती है। भगवान श्री राम का जन्म चैत्र शुक्ल पक्ष की नवमी के दिन पुनर्वसु नक्षत्र तथा कर्क लग्न में हुआ था। राम नवमी को देशभर में बड़े ही धूम- धाम से मनाया जाता है। इस दिन भगवान राम की विशेष पूजा- अर्चना की जाती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार भगवान श्री राम की कृपा से व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं।

राम नवमी 2022 शुभ मुहूर्त

  • नवमी तिथि का प्रारंभ: 10 अप्रैल,रविवार,01:22 AM पर
  • नवमी तिथि का समापन: 11 अप्रैल,सोमवार,03:16 AM पर
  • राम नवमी पूजा का शुभ मुहूर्त: दिन में 11:06 बजे से दोपहर 01:39 बजे तक
  • अभिजीत मुहूर्त: दोपहर 12 बजकर 04 मिनट से दोपहर 12 बजकर 53 मिनट तक
  • विजय मुहूर्त: दोपहर 02:30 बजे से दोपहर 03:21 बजे तक
  • अमृत काल: रात 11:50 बजे से देर रात 01:35 बजे तक

राम नवमी की पूजा विधि
रामनवमी पर सबसे पहले सुबह जल्दी उठकर स्नान कर साफ कपड़े पहनें। इसके बाद भगवान राम, माता सीता और लक्ष्मण जी की प्रतिमाओं को रोली का तिलक करें, फिर चावल, फूल, घंटी और शंख भगवान श्री राम को अर्पित करें।

भगवान श्रीराम की विधिवत पूजा करें। पूजा करते समय श्रीराम के मंत्रों का जाप करें। आखिर में सभी की आरती उतारें। इस दिन भगवान श्रीराम को झूला अवश्य झुलाएं. इस दिन रामचरितमानस और रामायण का पाठ करने का भी विधान है।

श्रीरामजी की आरती 
आरती कीजे श्रीरामलला की । पूण निपुण धनुवेद कला की ।।
धनुष वान कर सोहत नीके । शोभा कोटि मदन मद फीके ।।

सुभग सिंहासन आप बिराजैं । वाम भागवैदेहीराजैं ।।

कर जोरे रिपुहन हनुमाना । भरत लखन सेवत बिधि नाना ।।

शिव अज नारद गुन गन गावैं । निगम नेति कह पार न पावैं ।।

नाम प्रभाव सकल जग जानैं । शेष महेश गनेस बखानैं

भगत कामतरु पूरणकामा । दया क्षमा करुना गुन धामा ।।

सुग्रीवहुँ को कपिपति कीन्हा । राज विभीषन को प्रभु दीन्हा ।।

खेल खेल महु सिंधु बधाये। लोक सकल अनुपम यश छाये ।।

दुर्गम गढ़ लंका पति मारे । सुर नर मुनि सबके भय टारे ।।
देवन थापि सुजस विस्तारे । कोटिक दीन मलीन उधारे ।।

कपि केवट खग निसचर केरे । करि करुना दुःख दोष निवेरे ।।

देत सदा दासन्ह को माना । जगतपूज भे कपि हनुमाना ।।

आरत दीन सदा सत्कारे । तिहुपुर होत राम जयकारे ।।

कौसल्यादि सकल महतारी । दशरथ आदि भगत प्रभु झारी ।।
सुर नर मुनि प्रभु गुन गन गाई । आरति करत बहुत सुख पाई ।।

धूप दीप चन्दन नैवेदा । मन दृढ़ करि नहि कवनव भेदा ।।

राम लला की आरती गावै । राम कृपा अभिमत फल पावै ।।

राम नवमी का मंत्र

ॐ श्री रामाय नमः॥

श्री राम जय राम जय जय राम॥

ॐ दाशरथये विद्महे सीतावल्लभाय धीमहि,तन्नो राम प्रचोदयात्॥

भगवान श्रीराम का लगाए ये भोग
राम नवमी के दिन भगवान राम को खीर, केसर भात या फिर धनिए का भोग लगाएं। मिठाई में प्रभु राम को बर्फी, गुलाब जामुन या कलाकंद भोग पसंद है। तो भगवान को इन चीजों का भोग लगाना उत्तम होता है। पूजा समाप्त होने के बाद भोग लगाई गई चीजों में से प्रसाद का वितरण कर दें।

राम नवमी 2022 महत्व
भगवान राम ने अपने चौदह साल का वनवास किया था और इस दौरान उन्होंने रावण को मारकर धर्म की स्थापना की थी। माना जाता है इस दिन उपवास रखने से जीवन में सभी प्रकार की सुख और समृद्धि आती है।

Related posts

आपके लीवर को खराब कर रही हैं ये चीजे..हो जाएं सावधान

mohini kushwaha

इंडोनेशिया में आत्मघाती विस्फोट-राष्ट्रपति ने बताया कायराना और मूर्खतापूर्ण

mohini kushwaha

उपचुनाव में आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी, सीएम और पूर्व सीएम के बीच तेज हुई जंग

Breaking News