कोरोना से निपटने के लिए सबकी जिम्मेदारी होगी तय, जानिए क्या है पूरी योजना

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में कोरोना के बढ़ते खतरे के बीच सरकार ने जिला से लेकर मुहल्ला स्तर तक लोगों को जिम्मेदारी तय की है। सरकार का कहना है कि सबकी भागीदारी से ही संक्रमण पर लगाम लगेगी।

टीम करेगी ग्रामीण स्तर पर निगरानी

वायरस पर प्रभावी नियंत्रण लगाने के लिए जनपदों में अलग-अलग स्तर पर तैयारी की जा रही है। ग्रामवार, मोहल्लावार और वार्डवार टीम का गठन किया जा रहा है। जिसमें कोरोना वारियर्स की मदद से संक्रमण पर रोकथाम लगाई जाएगी। इस टीम में होमगार्ड, पीआरडी, एनसीसी, एनएसएस और अन्य सामाजिक संगठन से जुड़े वालंटियर और कार्यकर्ता शामिल किए जाएंगे। जिनका उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में जागरूकता और स्वास्थ्य सुविधाओं पर नजर रखना होगा।

इस कार्यक्रम को पूरा करने के लिए जिला प्रशासन, पुलिस विभाग, स्वास्थ्य विभाग, आपूर्ति विभाग, युवा कल्याण विभाग, सैनिक कल्याण विभाग जैसे अलग-अलग विभागों से पूरी मदद ली जाएगी। जनपद स्तर पर मॉनिटरिंग करने के लिए जिला मजिस्ट्रेट द्वारा कई अधिकारी नामित किए जाएंगे। इसके बाद कोरोना वारियर्स की टीम का गठन करके आगे की प्रक्रिया शुरू होगी।

कोरोना से निपटने के लिए सबकी जिम्मेदारी होगी तय, जानिए क्या है पूरी योजना

कोविड हेल्प डेस्क की हो शुरुआत

कोविड-19 से बचाव हेतु प्रदेश के सभी विभागों के कार्यालयों में कोविड हेल्प डेस्क स्थापित किये जाने के निर्देश दिये गये हैं। यह भी कहा गया है कि जिन कार्यालयों में अभी तक कोविड हेल्प डेस्क स्थापित नहीं किया गया है, उन्हें तत्काल स्थापित करते हुए उन कार्यालयों के कार्यालयाध्यक्षों, प्रभारी का उत्तरदायित्व निर्धारित किया जाये। पब्लिक एड्रेस सिस्टम को भी क्रियाशील कराने के निर्देश दिए गए हैं। इसके साथ ही वैक्सीन लगवाने के लिए प्रचार-प्रसार को भी करने की भी बात कही गई है।

30 अप्रैल तक बंद रहेंगे शिक्षण संस्थान

प्रदेश के समस्त माध्यमिक शिक्षा तथा बेसिक शिक्षा संस्थानों में पढाई पर 30 अप्रैल, 2021 तक रोक लगा दी गई है। जहां परीक्षाएं चल रही हैं, उनमें सभी सुरक्षा-व्यवस्थाओं का ध्यान रखते हुए परीक्षायें होंगी। यूपी में पिछले 24 घंटे में 13 हजार से अधिक नए मामले सामने आए हैं।

इसी के चलते स्वास्थ्य सुविधाओं को भी बेहतर किया जा रहा है। लखनऊ स्थित कैंसर संस्थान को कोविड अस्पताल बनाया गया है। सीएम ने कहा कि RT-PCR लैब्स की क्षमता बढ़ाई जाए, प्रतिदिन 1.5 लाख RT-PCR टेस्ट हों। ट्रूनेट मशीन का उपयोग किए जाने की भी सलाह दी। एम्बुलेंस सेवा सुचारु संचालित होने के भी निर्देश दिए हैं।

मंगलवार से शुरू हो रही नवरात्र की मंगलबेला, बरेली के इस मंदिर में पूरी होती है हर मुराद!

Previous article

यूपी में लॉकडाउन को लेकर सीएम योगी ने कही बड़ी बात, अफसरों को चेताया

Next article

Comments

Comments are closed.