मंगलवार को शुरू हो रहा नवरात्र, बरेली के इस माता के मंदिर में पूरी होती है हर मुराद

लखनऊ: मंगलवार से मंगलकामना के साथ हिंदुओं के शक्ति पर्व का आगाज होने जा रहा है। ये पर्व आदि शक्ति मां दुर्गा को समर्पित त्योहार है। मंगलवार से नवरात्र की शुरुआत होने जा रही है। मां दुर्गा शक्ति की देवी हैं। वो शक्ति स्वरूपा हैं। वो महागौरी हैं। वो कालरात्रि भी हैं।

पूरा अप्रैल महीना है त्योहारों वाला, 13 से नवरात्र तो 25 से शुरू हो रहे लगन, जानिए डिटेल

नवरात्र के दिन मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा होती है। वहीं इसी के साथ हिंदुओं के नए साल का भी आगाज होने जा रहा है। मंगलवार से ही नवसंवत्सर की भी शुरूआत हो रही है।

आइये आज से हम आपको उत्तर प्रदेश के प्रसिद्ध मां दुर्गा के मंदिरों से परिचय करवाते हैं। सबसे पहले शुरूआत करते हैं बरेली के प्रसिद्ध 84 घंटा मां दुर्गा जी के मंदिर से।

करगैना रोड पर है मां का ये चमत्कारिक मंदिर

बरेली के सुभाष नगर करगैना रोड पर मां दुर्गा का ये प्रसिद्ध मंदिर स्थित है। शारदीय और वासंतिक नवरात्र पर यहां पर मेले के जैसा माहौल रहता है।

मंगलवार को शुरू हो रहा नवरात्र, बरेली के इस माता के मंदिर में पूरी होती है हर मुराद

यहां पर भक्तों का तांता लगा रहता है। मंदिर में छोटे-बड़े लाखों घंटे लगे हैं। जो मां दुर्गा की आरती के समय जब बजते हैं तो एक आध्यात्मिक अनुभूति कराते हैं।

आध्यात्मिक अहसास कराते हैं घंटे

मंदिर के घंटों की पावन ध्वनि सुन कर मन आध्यात्मिक और आनंद से भर जाता है।

मंगलवार को शुरू हो रहा नवरात्र, बरेली के इस माता के मंदिर में पूरी होती है हर मुराद

पूरा इलाका मंगल ध्वनि में डूब जाता है। इस मंदिर की मान्यता है कि यहां मां से जो भी फरियाद की जाती है वो मां जरूर पूर्ण करती हैं।

2007 से जली ज्योत अब तक जल रही है

यहां पर 2007 में एक अखंड ज्योत जलाई गई थी जो अब तक जल रही है। ज्योत से मां का दरबार अत्यंत ही पावन लगता है। 84 घंटा मंदिर निर्माण के पीछे की कहानी के अनुसार 1969 में एक गर्ग परिवार ने बरेली में एक प्लॉट खरीदा था।

मां ने सपने में दिए दर्शन

जैसे ही मकान के निर्माण के लिए नींव की खुदाई शुरू हुई तो उसी रात को मां दुर्गा ने प्लाट के स्वामी स्वर्गीय उमाशंकर जी की पत्नी को सपना दिया कि इस प्लाट पर मकान से पहले मंदिर बनाया जाए।

मंगलवार को शुरू हो रहा नवरात्र, बरेली के इस माता के मंदिर में पूरी होती है हर मुराद

सुबह उठकर ये बात गर्ग परिवार की बहु शकुंतला देवी ने पति को बताई और रात में मां के दर्शन की बात कही।

मकान का निर्माण रोककर बनाया गया मंदिर

इसके बाद शंकुतला देवी के पति ने वहां पर मकान का निर्माण रुकवा दिया और सड़क के किनारे उसी प्लॉट पर माता का भव्य मंदिर बनवा दिया। इस मंदिर के निर्माण होते ही माता रानी को 84 घंटे चढ़ाए गए जिससे इस मंदिर का नाम 84 घंटा माता मंदिर पड़ गया।

यहां पर इस समय करीब 118584 घंटे हैं जो माता से मांगी गई मुराद पूरी होने पर भक्तों ने चढ़ाये हैं। गर्ग परिवार ही आज भी माता का श्रृंगार करता है। नवरात्र पर मंदिर की शोभा देखते ही बनती है।

बजरंग बली के साथ मौजूद है शिव परिवार

इस मंदिर में शिव परिवार के साथ साथ बजरंग बली की मूर्ति भी स्थापित है। जो मंदिर की सुंदरता में चार चांद लगा देती है।

इस मंदिर की ख्याति इस कदर फैली है कि बरेली से ही नहीं बल्कि पूरे यूपी और देश के कोने कोने से लोग इस मंदिर में माता रानी के दर्शन करने के लिए आते हैं और मुराद पूरी होने पर घंटा चढ़ाना नहीं भूलते हैं।

इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में मनाया गया संपूर्णानंद में NSUI की जीत का जश्न

Previous article

कोरोना से निपटने के लिए सबकी जिम्मेदारी होगी तय, जानिए क्या है पूरी योजना

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured