September 17, 2021 5:51 am
featured हेल्थ

दिल बेचारा की एक्ट्रेस को था थायराइड कैंसर, जानिए कैसे लेते है ये जान..

dil bechara दिल बेचारा की एक्ट्रेस को था थायराइड कैंसर, जानिए कैसे लेते है ये जान..

सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म दिल बेचारा काफी सूर्खियों मे है। लोग इस फिल्म को काफी पसंद कर रहे हैं। इसके साथ ही इस फिल्म को लेकर जो सबसे ज्यादा चर्चा हो रही है, वो है थायराइड कैंसर की। इस फिल्म की एक्ट्रेस इसी कैंसर से जूझ रही थी। आज हम आपको थायराइड कैंसर से जुड़ी हुई हर जानाकारी देने जा रहे हैं।

थायराइड कैंसर की शुरुआत शरीर में मौजूद थायराइड ग्रंथि से होती है जो थायराइड हार्मोन्स बनाती है। हार्मोन्स शरीर के चयापचय को सामान्य रूप से कंट्रोल रखने के लिए जरूरी होते हैं। पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में थायराइड कैंसर की संभावना तीन गुना ज्यादा होती है।
थायराइड कैंसर तब होता है जब आपके थायरॉयड में कोशिकाएं आनुवंशिक परिवर्तन से गुजरती हैं। कोशिकाओं को बढ़ने और तेजी से गुणा करने की अनुमति देते हैं। कोशिकाएं मरने की क्षमता भी खो देती हैं, जैसा कि सामान्य कोशिकाएं करती हैं। संचित असामान्य थायरॉयड कोशिकाएं एक ट्यूमर बनाती हैं। असामान्य कोशिकाएं पास के ऊतक पर आक्रमण कर सकती हैं और शरीर के अन्य भागों में फैल सकती हैं।

sushantsingh rajput दिल बेचारा की एक्ट्रेस को था थायराइड कैंसर, जानिए कैसे लेते है ये जान..
थायराइड कैंसर के लक्षण
गर्दन में गांठ पड़ना
ठंड न होते हुए भी खांसी की समस्या होना
गला बैठना या फिर आवाज में परिवर्तन
गर्दन में सूजन होना
खाना निगलने में कठिनाई होना
कर्कश आवाज

थायराइड कैंसर के कुछ और लक्षण

स्किन और बालों का डाई और रुखा होना
आंख संबंधी समस्या होना
सोचने और बोलने की क्षमता पर प्रभाव पड़ना
स्मरणशक्ति कमजोर हो जाना
वजन घटना या फिर बढ़ना

यह किसी व्यक्ति को अनुवांशिक तौर में मिल सकता है। यानी कि परिवार की पिछली पीढ़ियों में किसी को यह बीमारी रही हो। इसे कम्यूटर थायराइड कार्सिनोमा नाम से भी जाना जाता है। एडिएशन के कारण या आयोडीन की कमी के कारण भी थायराइड कैंसर की संभावना बढ़ जाती है।

थायराइड कैंसर के इलाज के लिए सबसे जरूरी है, जल्द से जल्द लक्षणों पर गौर कर इसकी पहचान करना। अगर इसक बीमारी के बारे में समय रहते जान लिया तो व्यक्ति जल्दी ठीक हो सकता है। लेकिन देरी होने पर यह गंभीर हो जाता है। कई बार थायराइड ग्रंथि को निकाल दिया जाता है। इस स्थिति में कृत्रिम थायराइड ग्रंथि का इस्तेमाल किया जाता है।

https://www.bharatkhabar.com/crpf-jawan-shot-himself/
थायराइड कैंसर से कई लोगों की जान चली जाती है। क्योंकि ये पुरूषों से ज्यादा महिलाओं में पाया जाता है। इसलिए थोड़े से भी लक्षण दिखने पर डॉक्टकर की सलाह जरूर लें।

Related posts

गुजरात के सूरत में रघुवीर टेक्सटाइल मार्केट में भीषण आग, 50 से ज्यादा दमकल की गाड़ियां पहुंची

Rani Naqvi

आ गया दिसंबर, आज से हुए ये बड़े बदलाव, जानें जेब पर पड़ेगा कितना असर?

Hemant Jaiman

सरकार ने खिलाड़ियों के डाइट भत्ते में की बढ़ोतरी, 100 से बढाकर 250 रुपए किया

Breaking News