धर्म

Navratri 2021: जानें कब से शुरु हैं नवरात्रि, कैसे करें कलश स्थापना और मां की पूजा

gupt navratri Navratri 2021: जानें कब से शुरु हैं नवरात्रि, कैसे करें कलश स्थापना और मां की पूजा

इस बार शारदीय नवरात्रि 7 अक्टूबर 2021 से 5 अक्टूबर 2021 तक रहने वाली हैं। बता दें कि नवरात्रि में पूजा  के साथ- साथ कलश स्थापना को भी महत्वपूर्ण माना जाता है। कलश स्थापना के बिना पूजा अधूरी मानी जाती है। शास्त्रों के  मुताबिक कलश को भगवान विष्णु का रूप माना  जाता है. इसलिए नवरात्रि पूजा से पहले कलश स्थापना की जाती है।

fichar navratri Navratri 2021: जानें कब से शुरु हैं नवरात्रि, कैसे करें कलश स्थापना और मां की पूजा

नवरात्रि में माता की विधि- विधान से पूजा करने का महत्व है। मां की विधि- विधान से पूजा करने से जीवन में सुख समृदि का वास होता है।

लाल रंग
नवरात्रि में मां की पूजा में लाल रंग का इस्तेमाल जरुर करें। लाल रंग मां को  काफी पसंद है। शारदीय नवरात्रि में मां की पूजा करें तो उसमें लाल रंग जरूर शामिल करें। पूजा में मात को लाल चुनरी और कुमकुम का टीक भी लगाएं।

अखंड ज्योत
अगर आप घर में अखंड ज्योत जलाते हैं तो ऐसा करने से  घर में सकारात्मकता आती है और नकारात्मक ऊर्जा का घर से बाहर जाती है। साथ ही मां की कृपा आप पर बरसती है। नवरात्रि के दिनों में घर में अखंड ज्योति जरुर जलानी चाहिये। साथ ही ध्यान रखें कि अखंड ज्योत में कुछ सावधानियां भी रखनी चाहिये जैसे- साफ सफाई रखें आसपास। साथ ही ज्योत को बुझने नहीं देना चाहिये इसलिये घी का ध्यान रखें।  इसके अलावा मिट्टी या पीतल के दीये का इस्तेमाल करें। पूजा में गाय के घी का दीपक जलायें।

नारियल
मां की पूजा में नारियल भी जरुर शामिल करें, साथ ही विधि विधान के साथ मां की पूजा करें। और आरती करें। इससे आपके जीवन में खुशहाली का वा होता है, साथ ही आपकी हर मनोकामना पुरी होती है।

पूजा
कलश स्थापना के लिए सबसे पहले सुबह उठकर नहायें, इसके बाद साफ सुथरे कपड़े पहनें। साथ ही घर के मंदिर की भी साफ-सफाई कर लें। मां को बिठाने के लिये  सफेद या लाल कपड़ा चौकी पर  बिछायें और इस कपड़े पर थोड़े चावल रख लें । साथ ही एक मिट्टी के बर्तन में जौ बोयें और कलश की स्थापना करें।
साथ ही कलश पर स्वास्तिक बनाना ना भूलें।  कलश में साबुत सुपारी, सिक्का और चावल डालकर अशोक के पत्ते रखने चाहिए। नारियल  पर चुनरी लपेटकर कलावा से बांध दें,  और फिर इस नारियल को कलश के ऊपर रखें। अब मां की पूजा करें आरती करें।

 

Related posts

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नें गंगा तट पर वैदिक मंत्रोचार से विधिवत आरती गंगा पूजन किया

Rani Naqvi

2 अक्टूबर 2021: आज का पंचांग, जानें पितृ पक्ष में एकादशी का क्या है महत्व

Neetu Rajbhar

जेष्ठ पूर्णिमा के लिए कैसे करें तैयारी, क्या है शुभ मुहूर्त

Aditya Mishra