धर्म

Dhanteras 2021: जानें इस साल कब है धनतेरस ? कैसे करें कुबेर देवता को प्रसन्न

dhn Dhanteras 2021: जानें इस साल कब है धनतेरस ? कैसे करें कुबेर देवता को प्रसन्न

इस बार हिंदू पंचाग के  मुताबिक 2 नवंबर 2021 को मनाई जाएगी। बता दें कि इस दिन  भगवान धनवंतरि की पूजा की जाती है।

luxmi Dhanteras 2021: जानें इस साल कब है धनतेरस ? कैसे करें कुबेर देवता को प्रसन्न

धनतेरस के दिन पूजा करने से धन-समृद्धि मिलती है, आपको बता दे कि इस भगवान धनवंतरि का जन्मदिन भी होता है। इसी वजह से धनतेरस के दिन धनवंतरि की पूजा की जाती है। इस दिन धन के स्वामी कुबेर की पूजा करने से जीवन में धन की कमी नहीं रहती  कुबेर देवता प्रसन्न होकर धन की वरदान देते हैं।

धनतेरस 2021
धनतेरस – 02 नवंबर 2021, मंगलवार
प्रदोष काल- शाम 05:35 से 08:11 तक
वृषभ काल- शाम 06:18 से शाम 08:14 तक
धनतेरस 2021 पूजन शुभ मुहूर्त- शाम 06:18 से 08:11 तक

कुबेर को धन का देवता माना जाता है, इसलिये उनकी पूजा से धन, वैभव और सुख-समृद्धि मिलती है।  चलिये जान लेते हैं कि इस दिन किस तरह आप कुबेर देवता को प्रसन्न कर सकते हैं।

दीपक जलायें
कहा जाता है  भगवान शिव के आगे दीपक जलाने से कुबेर देवता बने थे,  इसलिए आप भी रात को भगवान शिव के आगे दीपक जलायें इससे उनकी कृपा आपको मिलती है।

घर में तस्वीर रखें 
अगर आप घर में कुबेर देवता की  तस्वीर रखते हैं तो  कभी भी आपको  धन  की कमी नहीं  रहती।   घर में उत्तर दिशा में कुबेर देवता की तस्वीर लगाकर पूजा करें।

तिजोरी में रखें कुबेर देवता
घर में जिस जगह पर धन रखा जाता है  वहां  देवता कुबेर को जरूर रखना चाहिए।   क्योंकि धन की रक्षा कुबेर ही करते हैं इसलिए तिजोरी में कुबेर देवता की फोटो लगानी चाहिये।

धनतेरस  कथा
पौराणिक मान्यता के मुताबिक  धनवंतरि देव का जन्म धनतेरस के दिन समुद्र मंथन के दौरान हुआ था।  कार्तिक मास की त्रियोदशी तिथि के दिन धनवंतरि का जन्म हुआ । ऐसा माना जाता है कि धनवंतरि भगवान विष्णु के ही अवतार हैं। इसके अलावा धनवंतरि को आयुर्वेद का  भी जन्मदाता  बताया गया है। और यही वजह है कि  उन्हें देव चिकित्सक के रुप में भी जाना जाता है। भगवान धनवंतरि ने कई ग्रंथो की रचना की है।

 

Related posts

जाने क्यूं आता है भगवान को बुखार

piyush shukla

साल 2017 का पहला चंद्र ग्रहण…रखें इन बातों का ध्यान

shipra saxena

अक्षय तृतीया के दिन करे यें काम होगा शुभ

mohini kushwaha