September 18, 2021 10:31 am
धर्म

आज का पंचांगः शनिवार को करें शनिदेव की पूजा, ये है पूजा करने की विधी और शुभ समय, ऐसे करें प्रसन्न

shani devta ki puja vidhi आज का पंचांगः शनिवार को करें शनिदेव की पूजा, ये है पूजा करने की विधी और शुभ समय, ऐसे करें प्रसन्न
आज शनिवार है। इस दिन शनिदेव की पूजा की जाती है। शनिदेव की पूजा करने से कई पापों का नाश होता है। सभी कष्ट हमसे भाग जाते हैं।
आज का शुभ और अशुभ मुहूर्त 
आज की तिथि – सप्तमी – 05:43:09 तक
आज का नक्षत्र- अश्विनी – 16:38:03 तक
आज का करण- बव – 05:43:09 तक, बालव – 18:48:07 तक
आज का पक्ष- कृष्ण
आज का योग- शूल – 21:00:04 तक
आज का वार- शनिवार
सूर्योदय-सूर्यास्त और चंद्रोदय-चंद्रास्त का समय
सूर्योदय- 05:41:31
सूर्यास्त- 19:13:03
चन्द्रोदय- 23:52:00
चन्द्रास्त- 12:24:00
चन्द्र राशि- मेष
हिन्दू मास एवं वर्ष
शक सम्वत- 1943 प्लव
विक्रम सम्वत- 2078
काली सम्वत- 5123
दिन काल- 13:31:31
मास अमांत- आषाढ
मास पूर्णिमांत- श्रावण
शुभ समय – 12:00:14 से 12:54:20 तक
अशुभ मुहूर्त
दुष्टमुहूर्त- 05:41:31 से 06:35:38 तक, 06:35:38 से 07:29:44 तक
कुलिक- 06:35:38 से 07:29:44 तक
कंटक- 12:00:14 से 12:54:20 तक
राहु काल- 09:04:24 से 10:45:51 तक
कालवेला / अर्द्धयाम- 13:48:26 से 14:42:32 तक
यमघण्ट- 15:36:38 से 16:30:44 तक
यमगण्ड- 14:08:43 से 15:50:10 तक
गुलिक काल- 05:41:31 से 07:22:58 तक
शनिदेव मंत्र 

तांत्रिक मंत्र- ऊँ प्रां प्रीं प्रौं सः शनये नमः।

वैदिक मंत्र- ऊँ शन्नो देवीरभिष्टडआपो भवन्तुपीतये।

एकाक्षरी मंत्र- ऊँ शं शनैश्चाराय नमः।

गायत्री मंत्र- ऊँ भगभवाय विद्महैं मृत्युरुपाय धीमहि तन्नो शनिः प्रचोद्यात्

 

शनिदेव को ऐसे किया जाता है प्रसन्न 

शनिदेव को पश्चिम दिशा का स्वामी माना गया है। इस लिए इनकी पूजा करते समय या शनि मंत्रों का जाप करते समय व्‍यक्ति का मुंह पश्चिम दिशा की ओर होना चाहिए। शनिदेव की पूजा करते समय साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखें। शनिदेव की पूजा में काले या नीले रंग की वस्‍तुओं का इस्तेमाल करना शुभ माना जाता है। साथ ही शनिदेव को नीले फूल चढ़ाने चाहिए। लेकिन याद रखें कि शनि की पूजा में लाल रंग का कुछ भी न चढ़ाएं। चाहे लाल कपड़े हों, लाल फल या फिर लाल फूल ही क्‍यों न हों। इसकी वजह यह है कि लाल रंग और इससे संबंधित चीजें मंगल ग्रह से संबंधित हैं। मंगल ग्रह को भी शनि का शत्रु माना जाता है।

 

 

Related posts

….जानिए दीपावली पर कब शुरू हुई पटाखे जलाने की परम्परा

Breaking News

मथुरा काशी में आज मनाई जाएंगी जन्माष्टमी, होगी पूजा अर्चना

Ravi Kumar

धनतेरस पर भूलकर भी न खरीदें ये चीजें!

Hemant Jaiman