featured धर्म

जानें पितृ पक्ष में पड़ने वाली ‘इंदिरा एकादशी’ के व्रत का महत्व, और पूजा मुहूर्त के बारे में

vishnu_ji

एकादशी के व्रत का काफी महत्व माना जाता है। हर महीने के दोनों पक्षों में ग्यारहवीं तिथि को एकादशी का  व्रत किया जाता है। आपको बता दें कि साल में 24 एकादशी तिथियां पड़ती हैं। आश्विन मास में कृष्ण पक्ष की एकादशी को इंदिरा एकादशी के नाम से भी जाना  जाता है।

इस दिन भगवान विष्णु की पूजा पाठ करने का महत्व माना जाता है। कहा जाता है कि जो लोग एकादशी का व्रत करते हैं उनको पापों से मुक्ति मिलती है। साथ ही मोक्ष मिलता है। और हर महीने पड़ने वाली एकादशी पर कुछ लोग बिना पानी पीकर भी इस व्रत को करते हैं।

आज हम आपको बताने जा रहे हैं इस महीने  पड़ने वाली इंदिरा एकादशी के बारे में जो कि  2 अक्टूबर 2021 के दिन पडेगी। ये एकादशी काफी मानी जाती है, क्योंकि  ये एकादशी पितृ पक्ष में  प़डने  के कारण  इसका काफी  महत्व बढ़ जाता है।

इस दिन भगवान श्री विष्णु की पूजा की जाती है। कहा जाता है कि जो मनुष्य इस एकादशी के दिन व्रत और पूजा करते हैं उनकी सभी दुख दूर हो जाते हैं। चलिये जानते हैं इंदिरा एकादशी के व्रत से जुडी ये खास बातें

इंदिरा एकादशी की शुभ मुहूर्त:-
आश्विन महीने के कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि 01 अक्टूबर 2021 को रात 11 बजकर 03 मिनट से शुरू होगी।और  एकादशी तिथि 2 अक्टूबर 2021 रात को 11 बजकर 10 मिनट पर खत्म होगी।

एकादशी व्रत 03 अक्टूबर 2021 को  सुबह 06 बजकर 15 मिनट से 08 बजकर 27 मिनट तक  रहेगा। पितृ पक्ष में आने वाली एकादशी को अगर आप नियम और  निष्ठा के साथ करते हैं तो  मोक्ष की प्राप्ति होती है।

यदि कोई शख्स एकादशी व्रत करके उसका पुण्य पितरों को समर्पित करता है तो पितृ को मोक्ष मिलता है।  एकादशी का व्रत श्री विष्णु के लिये किया जाता है।  और इस व्रत को करने से आपकी सभी इच्छाएं पूरी होती है।

Related posts

तेजप्रताप ने अयोध्या में राम मंदिर को लेकर किया बड़ा एलान, बिहार से यूपी ले जायेंगे एक-एक ईट

Rani Naqvi

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने जारी की उम्मीदवारों तीसरी सूची

mahesh yadav

मुंबई से लंदन जा रहे एयर इंडिया के विमान में शराब को लेकर विदेशी महिला ने किया जमकर हंगामा

Rani Naqvi